ऑक्सफैम की ताजा रिपोर्ट ने भारतीय अरबपतियों को किया बेनकाब

171

अगर दुनिया के अमीरों पर 5 फीसदी टैक्स लगा दिया जाए तो एक साल में करीब 1.7 ट्रिलियन डॉलर इकट्ठे किए जा सकते हैं, जो कि दुनिया के करीब 2 अरब लोगों को गरीबी रेखा से बाहर निकाल सकते हैं। यह दिलचस्प आंकड़ा ऑक्सफैम ने अपनी हालिया रिपोर्ट में दिया है। इस रिपोर्ट में भारत के अमीरों को लेकर भी हैरान करने वाला आंकड़ा सामने आया है, जिसने अंबानी-अडानी सरीखे अरबपतियों की पोल खोल कर रख दी है।

Oxfam ने वर्ल्ड इकॉनोमिक फोरम की वार्षिक बैठक के दौरान अपनी वार्षिक असमानता रिपोर्ट जारी की है, जिसमें यह बात सामने आई है। दरअसल दुनिया के एक फीसदी अमीरों की दौलत बीते दो सालों में दुनिया के बाकी 99 फीसदी लोगों की तुलना में करीब दोगुनी तेजी से बढ़ी है। दुनिया के अमीरों की दौलत हर दिन 22 हजार करोड़ रुपए हर दिन बढ़ी है। जिससे गरीबी और अमीरी की खाई चिंताजनक रूप से बढ़ने लगी है।

रिपोर्ट बताती है कि दुनिया के 170 करोड़ मजदूर उन देशों में रहते हैं, जहां महंगाई, मजदूरी से ज्यादा है, जिससे वह हर दिन गरीबी में धंसते जा रहे हैं। ऐसे में अगर दुनिया के अमीरों पर 5 फीसदी टैक्स लगा दिया जाए तो एक साल में करीब 1.7 लाख करोड़ रुपए इकट्ठे किए जा सकते हैं। दिलचस्प यह है कि यह रकम दुनिया के करीब 2 अरब लोगों को गरीबी रेखा से बाहर निकाल सकती है।

‘सर्वाइवल ऑफ द रिचेस्ट’ शीर्षक वाली इस रिपोर्ट में बताया गया है कि साल 2020 से दुनिया में करीब 42 ट्रिलियन यूएस डॉलर की संपत्ति कमाई गई है, जिसमें से करीब दो तिहाई संपत्ति दुनिया के सिर्फ एक फीसदी अमीरों की जेब में गई है। यानी जहां एक आम आदमी अपनी रोजमर्रा की जरूरतें भी पूरी नहीं कर पा रहा है, वहीं अमीर लोग दिनों दिन अमीर होते जा रहे हैं। बीते दो साल तो अमीरों के लिए खास तौर पर फायदेमंद रहे हैं।

इसी क्रम में भारत को लेकर ऑक्सफैम इंडिया की रिपोर्ट बताती है कि भारत में सिर्फ 21 अरबपतियों के पास जितनी दौलत है, वह देश के 70 करोड़ लोगों की सारी दौलत मिलाने से भी ज्यादा है। यानी करीब 140 करोड़ आबादी वाले भारत में आधी जनसंख्या जितना पैसा अकेले 21 अरबपति लोगों के पास है। रिपोर्ट बताती है कि बीते साल अंबानी और अडानी सरीखे देश के टॉप अरबपतियों ने हर रोज 3000 करोड़ रुपये से ज्यादा की दौलत कमाई है।

 जहां देश के अरबपति अरबों कमाने में जुटे हैं, तो वहीं देश की आम जनता टैक्स चुकाने में जुटी है। इसका दिलचस्प आंकड़ा आपकी आंख खोल देगा। देश में GST से सरकार के पास जो भी धन इकट्ठा हुआ है, उसका 64 फीसदी हिस्सा साधारण कमाई करने वाले आम लोगों ने चुकाया हैं। इस टैक्स से मिलने वाली पूरी राशि में देश के सबसे धनवान 10 फीसदी बड़े अरबपतियों का हिस्सा सिर्फ 3 प्रतिशत है।

रिपोर्ट यह भी बताती है कि देश के 166 अरबपतियों में टॉप 100 अरबपति ऐसे हैं, जो 18 महीनों तक पूरे देश का खर्च उठा सकते हैं। तो वहीं अगर इनकी संपत्ति पर सिर्फ एक बार दो फीसदी टैक्स लगा दिया जाए तो अगले तीन सालों के लिए देश में कुपोषित लोगों के पोषण के लिए 40,423 करोड़ रुपये जमा हो जाएंगे।

इन आंकड़ों के आने के बाद अब एक बार फिर अमीरों से ज्यादा टैक्स वसूलने की मांग होने लगी है। ऑक्सफैम इंडिया के CEO अमिताभ बेहर ने कहा है कि अब समय आ गया है कि धनी वर्ग पर टैक्स बढ़ाकर उनसे उचित हिस्सा लिया जाए। आगामी बजट से ठीक पहले आई इस रिपोर्ट के बाद सरकार क्या फैसला लेती है, इस पर सबकी नजर रहेगी। यह देखना दिलचस्प होगा कि मोदी सरकार क्या देश की आम जनता के साथ खड़ी है या फिर देश के पूंजिपतियों के साथ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.