जयंती विशेषः दुनिया की 27 भाषाओं में छपने वाले महान साहित्यकार थे अण्णा भाऊ साठे

1298

स्कूली शिक्षा के शुरुआती दिनों में ही मुझे रविन्द्र नाथ टैगोर का नाम पता चल गया था. लेकिन अण्णा भाऊ साठे का नाम जानने में मुझे अगले 20 सालों तक और इंतजार करना पड़ा. अण्णा भाऊ साठे का नाम मुझे तब पता चला जब मैं महाराष्ट्र के एक अखबार से जुड़ा और महाराष्ट्र के अम्बेडकरवादियों के संपर्क में आया. और मैं हैरान रह गया कि आखिर इतना बड़े साहित्यकार की कहानी देश के भीतर एक राज्य तक ही क्यों सीमित है. अण्णा भाऊ साठे ऐसे महान साहित्यकार हैं, जिनकी प्रतिभा का डंका दुनिया के 27 देशों में बजता था. लेकिन भारतीय साहित्यकारों के बीच वह अछूत हैं.

जी हां, अण्णा भाऊ साठे, जिन्होंने अपनी कलम की मशाल बनाकर दलित, मजदूर, गरीब, झुग्गी-झोपड़पट्टी वासियों की समस्या को विश्व के पटल पर रखा. एक अगस्त को इस महानायक की जयंती होती है. महाराष्ट्र के सांगली जिले के वालवा तहसील के वाटे गांव में बेहद गरीब, दलित–मातंग परिवार में एक जनवरी 1920 को अण्णा भाऊ साठे का जन्म हुआ था. पहले उनका नाम तुकाराम रखा गया था लेकिन बाद में वह अण्णा भाऊ नाम से जाने गये.

उनके जीवन की सबसे क्रांतिकारी घटना यह रही कि अण्णा भाऊ स्कूली शिक्षा नहीं ले पाएं. सड़क किनारे दुकानों पर लगे साइन बोर्ड पढ़कर उन्होंने अक्षरों को पहचानना सीखा. उन्होंने खुद साक्षर होकर कलम थाम लिया और विश्वविख्यात साहित्यकार बने. बिना किसी युनिवर्सिटी में गए विश्वस्तरीय साहित्य रचने वाले अण्णाभाऊ अपने दौर के इकलौते साहित्यकार हैं. विश्व के 27 भाषाओं में छपने वाला साहित्यकार विश्वविख्यात तो बन गया, लेकिन उन्हें अपने देश भारत में ही वो ख्याति नहीं मिली, जिसके वह हकदार थे.

अण्णा भाऊ ने अपने जीवन में कई महत्वपूर्ण साहित्य की रचना की. उनके 20 कहानी संग्रह, नाटिका, 12 लोकनाट्य, एक यात्रा वृतांत, 30 उपन्यास, 10 लोकप्रिय पोवाडे के साथ ही अनेक साहित्य कृतिया प्रकाशित हुए. उनके उपन्यास पर 8 फिल्में भी बनीं. उनके द्वारा लिखे साहित्य का रशियन, फ्रेंच, अंग्रेजी के साथ देश-विदेश की 27 भाषाओं में अनुवाद प्रकाशित हुआ. अण्णा भाऊ की रचना को देश-विदेश के अनेक पुरस्कार-सम्मान प्राप्त हुए. कहा तो यह भी जाता है कि रूस में अण्णाभाऊ के साहित्य के इतना पसंद किया गया कि भारत और रूस के आपस के संबंध ज्यादा बेहतर हो गए.

साहित्य के अलावा उनके जीवन का एक पहलू आंदोलनकारी का भी था. मुंबइ के दादर स्थित मोरबाग कपड़ा मिल में 1936-37 में मजदूरी करते हुए वो श्रमिक आंदोलन से जुड़ गए. उस दौरान वह रशियन साम्यवादी क्रांति से प्रभावित थे. अण्णाभाऊ साठे ने अपने गीत एवं साहित्य को पूंजीवादी व्यवस्था और मजदूरों के शोषण के खिलाफ शस्त्र बनाया. अन्याय-अत्याचार के खिलाफ उनकी कलम आग उगलती थी. लोक नाटिका के माध्यम से उन्होंने सोये हुये समाज को जगाने का काम किया. अगर यह कहा जाए कि संयुक्त महाराष्ट्र के आंदोलन में उनकी कलम तथा वाणी ने जान फूंकी तो गलत नहीं होगा. मातंग समाज के बागी नायक ‘फकीरा’ के जीवन पर ‘फकीरा’ शीर्षक से ही लिखे उपन्यास से उन्हें काफी प्रसिद्धी मिली. इसके लिए उन्हें अनेक राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार मिले तथा उन्हें महाराष्ट्र का मैक्सिम गोर्की कहा गया.

हालांकि शुरू में कम्युनिस्ट प्रभाव वाले अण्णाभाऊ बाद में आम्बेडकरवादी विचारधारा के हो गए. बाद के दिनों में अण्णा भाऊ भारतीय वर्ण व्यवस्था के विनाश के लिए आंबेडकरी विचारधारा के अलावा अन्य विकल्प ना होने की बात कहते थे. उनका विचार था कि पूरी व्यवस्था बदले बगैर देश के गरीब, श्रमिक, दलित व किसानों को न्याय नहीं मिलेगा. यही वजह रही कि उन्होंने भारत की स्वतंत्रता पर ही सवाल उठाया था. 15 अगस्त 1947 को जब भारत आजाद हुआ और देश भर में जश्न मनाया जा रहा था, तब अण्णा भाऊ ने सवाल उठाया कि स्वाधीनता किसे मिली? पूंजीपति को या जन सामान्य को? ऐसे सवाल उठाकर अण्णाभाऊ ने जहां आमजन को विचलित कर दिया तो सरकार को परेशान कर दिया. हर प्रकार के अन्याय के खिलाफ बगावत अण्णा भाऊ का स्थायी भाव था. उनकी जयंती पर उनको नमन.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.