एक सांसदी टिकट के लिए उदित राज का इतना छटपटाना खल गया

0
1211
2014 में भाजपा ज्वाइन करने के दौरान उदित राज (फाइल फोटो) Photo Credit: Indian Express

24 फरवरी 2014 को मैं भाजपा के दफ्तर में मौजूद था, जब उदित राज भाजपा ज्वाइन करने वाले थे. बतौर पत्रकार मैं भाजपा कवर कर रहा था. मैं भी हैरान था कि उदित राज को ऐसा क्या सूझा कि उन्होंने भाजपा ज्वाइन करने का मन बना लिया. खैर, उदित राज मंच पर आएं, वही अफसरों वाला रुवाब था उनका… जिसे कई अम्बेडकरवादियों ने उनसे मिलने के वक्त महसूस किया होगा. राजनाथ सिंह के सामने उन्होंने भाजपा की सदस्यता ली. केजरीवाल से लेकर मायावती तक को रोकने की बात कही. वहां मंच के बाईं ओर एक कोने में उदित राज के समर्थकों ने जगह घेर रखी थी, जहां से वो ‘जय भीम’ और ‘उदित राज जिन्दाबाद’ के नारे लगा रहे थे. उदित राज के हाव भाव को देख कर लग रहा था कि वो भाजपा में अपनी शर्तों के साथ आ रहे हैं. लेकिन 2019 आते-आते स्थिति बदल गई.

 भाजपा ने उत्तर पश्चिम दिल्ली से अपने वर्तमान सांसद उदित राज का टिकट काट दिया है. भाजपा ने उनकी जगह गायक हंस राज ‘हंस’ को टिकट दिया है. उदित राज का टिकट कटने की संभावना तभी से जताई जा रही थी, जब से भाजपा ने उनकी सीट को छोड़कर बाकी के छह लोकसभा क्षेत्रों से अपने उम्मीदवार तय कर दिए थे. उदित राज ने 2014 लोकसभा चुनाव के पहले 24 फरवरी 2014 को भाजपा ज्वाइन किया था.

उदित राज को भी इसका अंदेशा हो गया था. यही वजह थी कि वह सोमवार को एक के बाद एक ट्विट करते रहे और भाजपा नेताओं से तकरीबन सार्वजनिक गुहार लगाते दिखे. उन्होंने यह कह कर भी भाजपा को डराने की कोशिश किया कि उनके पास कांग्रेस और आम आदमी पार्टी से ऑफर है, लेकिन वह अपनी पार्टी के फैसले का इंतजार कर रहे हैं. उदित राज के इस बयान ने टिकट मिलने और संसद में दुबारा पहुंचने की उनकी बेचैनी को भी दिखाया. वह काफी असहाय से दिख रहे थे. उदित राज को जानने वालों के लिए यह एक झटका था. एक दौर में जिस उदित राज के आमंत्रण पर दर्जनों सांसद पहुंच जाया करते थे, उसका महज एक सांसद बनने को लेकर छटपटाना निराश करने वाला था.

अपने आखिरी दांव को चलते हुए उदित राज ने आज 23 अप्रैल को यह अल्टिमेटम भी दे दिया कि टिकट नहीं मिलने पर वह भाजपा छोड़ देंगे, लेकिन इसके बावजूद भाजपा के नेताओं ने न तो उदित राज से बात करनी जरूरी समझी और न ही उन्हें मनाने की कोशिश की. और जिस तरह से अचानक उनका टिकट कटने की खबर आई उससे साफ है कि भाजपा को उनके पार्टी में रहने या नहीं रहने से कोई फर्क नहीं पड़ता है.

उदित राज के लिए मुश्किल यह है कि उन्होंने भाजपा के साथ समझौता नहीं किया था, बल्कि अपनी पार्टी इंडियन जस्टिस पार्टी का विलय ही भाजपा में कर दिया था. इसलिए उनके पास अब घरवापसी का भी कोई रास्ता नहीं है. एक बड़ी सोच वाले व्यक्ति का यूं एक छोटे से पद के लिए इतने बड़े समझौते कर लेना भी निराश करता है. उदित राज की आगे की राह क्या होगी, यह देखना होगा. लेकिन महज एक सांसदी के लिए उनका छटपटाना काफी खल गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.