मध्यप्रदेश में अम्बेडकर और संत रैदास का अपमान

छतरपुर। मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार जहां अपने आपको दलित हितैषी बता रही हैं वही दूसरी ओर यही सरकार दलितों पर हो रहे अत्याचार पर अंकुश लगाने में नाकाम है. मामला छतरपुर जिले के बमीठा थाना क्षेत्र में आने वाले कुटिया ग्राम पंचायत का है, जहां दलितों के साथ मारपीट की गई और बाबासाहेब डॉ. अम्बेडकर और संत रैदास का अपमान किया गया.

छत्तरपुर के कुटिया में अहिरवार समाज के लोग बाबा साहब डॉ अम्बेडकर और संत रविदास जी के बैनर तले कन्या भोज का कार्यक्रम कर रहे थे. इस दौरान डी.जे. में संत रविदास जी की आरती बज रही थी. यह बात वहां के सामंती समाज को बर्दास्त नहीं हुई. वो वहां आकर गाली गलौच करने लगे और संविधान निर्माता बाबा साहब का बैनर और अन्य सामान कुएं में फेंक दिया. इस दौरान उन्होंने मोके पर मौजूद दलितों के साथ मारपीट की और उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी.

किसी तरह पीड़ितों ने मामले की जानकारी पुलिस को 100 पर दी, तब जाकर मामला दर्ज हो पाया. स्थानीय थाने में sc/st एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है और पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है. तो वहीं दलितों में बाबासाहेब और संत रविदास के अनादर को लेकर गुस्सा है. उन्होंने आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर मोर्चा खोल दिया है. उनका कहना है कि आरोपियों की गिरफ्तारी तक लड़ाई जारी रहेगी.

रिपोर्ट- कालीचरण अहिरवार

Read it Also-बहनजी के चुनाव लड़ने की खबर से राजनीतिक हलचल तेज

  • दलित-बहुजन मीडिया को मजबूत करने के लिए और हमें आर्थिक सहयोग करने के लिये दिए गए लिंक पर क्लिक करें https://yt.orcsnet.com/#dalit-dastak 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.