कोरोना संकट के बीच पीएम मोदी का बेतुका बयान

0
947

 प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी काफी दिनों तक गायब रहने के बाद देश की जनता के सामने आए। जब किसान आंदोलन लगातार जारी है और किसान कृषि बिल को वापस लेने की मांग पर अड़े हुए हैं, उन्हें लुभाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने आज किसान सम्मान निधी की आठवीं किस्त जारी की। कार्यक्रम ऑनलाइन था। अब चूकि पीएम मोदी सामने आए थे, तो निश्चित तौर पर उन्हें कोरोना को लेकर कुछ न कुछ बोलना ही था। क्योंकि अगर वह नहीं बोलते तो सवाल उठता ही। ऐसे में भाषणवीर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने भाषण के दौरान कोरोना को लेकर तमाम बातें कही, जिसमें तीन बातें उल्लेख करना जरूरी है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, बीते कुछ समय से जो कष्ट देशवासियों ने सहा, मैं भी उतना ही महसूस कर रहा हूं। उन्होंने कहा कि कुछ लोग दवाओं और जरूरी वस्तुओ की कालाबजारी में लगे हैं, इन पर कठोर कार्रवाई की जाए। पीएम ने यह भी कहा कि भारत और कोई भी भारतवासी हिम्मत नहीं हारेगा, हम लड़ेंगे और जीतेंगे।

भाषणवीर प्रधानमंत्री के इस बयान के आने से ज्यादा बेहतर होता कि वो जैसे अब तक कोरोना के कोहराम के बीच चुप्पी साधे रहे, आज भी अपना मुंह बंद ही रखते, क्योंकि उन्होंने जो कहा, उसने देश के लोगों को और ज्यादा ही निराश किया और उनकी गिरती साख पर एक बट्टा और लगा दिया। साथ ही उनके लोगों और भांड मीडिया द्वारा प्रचारित 56 इंच के सीने को एक बार फिर से छलावा साबित कर दिया।

पीएम मोदी ने कहा कि वो देशवासियों के कष्ट को महसूस कर रहे हैं। सवाल उठता है कि देश की जनता ने मोदी के नाम पर इसलिए वोट नहीं दिया था कि वो उनकी परेशानी महसूस करेंगे, बल्कि निश्चित तौर पर इसलिए दिया था कि वो देश के लोगों की तकलीफों को दूर करेंगे। कालाबजारी पर प्रधानमंत्री मोदी का बयान गोल मोल रहा। जिस गुजरात और मध्यप्रदेश में नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने की घटना हुई है, उन दोनों राज्यों में भाजपा की सरकार है, जो कहीं न कहीं पीएम मोदी के इशारे पर ही चलती है। केंद्र में भी ‘मोदी राज’ है। ऐसे में उन पर शिकंजा कौन कसेगा??

 जब से कोरोना की दूसरी लहर आई है, देश की सरकार सुन्न सी पर गई है। बल्कि कहीं न कहीं इस दूसरी लहर को बढ़ाने में योगदान ही दिया है। तमाम राज्यों के चुनाव और यूपी के पंचायत चुनाव ने तमाम राज्यों की हालत खराब कर दी है। हाल ही में प्रतिष्ठित आउटलुक मैग्जीन ने अपने कवर पेज पर Missing (लापता) लिखा है, उसने भारत सरकार को मिसिंग बताया है। वर्तमान में देश ऐसे ही हालात में है। ऐसे वक्त में जब देश की जनता को उसकी सरकार की सबसे ज्यादा जरूरत थी, सरकार खामोश खड़ी तमाशा देख रही है। देश किसके भरोसे चल रहा है, किसी को नहीं पता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.