बहुजन प्रेरणा स्थल पर तालेबंदी और बहुजन सत्ता 

0
2837

14 अक्टूबर 2011. नोएडा के सेक्टर 18 के पास एक भव्य स्थल दुल्हन की तरह सजा हुआ था. सबके स्वागत को तैयार. तभी उसके प्रांगण में गड़गड़ाता हुआ एक हेलिकॉप्टर उतरा, और उसमें से उतरीं उत्तर प्रदेश की तत्कालिन मुख्यमंत्री मायावती. दरअसल मायावती उस भव्य स्थल का उद्घाटन करने आई थीं, जिसका नाम ‘राष्ट्रीय दलित स्मारक’ था और जिसे दलित प्रेरणा स्थल भी कहा जाता है. इसके जरिए बहनजी ने 14 अक्टूबर के महत्वपूर्ण दिवस पर धम्मचक्र को गतिमान करने की दिशा में महत्वपूर्ण काम किया था.

दलित प्रेरणा स्थल के मुख्य गुंबद के गेट पर लगा ताला (तस्वीरः 27 सितंबर, 2019)

दलित प्रेरणा स्थल के उद्घाटन को आज 8 साल पूरे हो गए हैं. और आठ साल बाद ही बहुजनों की आस्था को केंद्र में रखकर बनाए गए इस इमारत के प्रमुख गुंबद पर ताला जड़ा जा चुका है. आप जो ये दरवाजा देख रहे हैं, वह इस भव्य इमारत का प्रमुख गुंबद है, जिसके भीतर बाबासाहेब डॉ. आम्बेडकर, बहुजन नायक मान्यवर कांशीराम और बसपा प्रमुख सुश्री मायावती की आदमकद प्रतिमा लगी हैं. तो इसकी दीवारों पर बहुजन समाज के नायकों और उनके द्वारा किए गए प्रमुख आंदोलनों और कार्यों का जिक्र है. लेकिन इसके बंद होने की वजह से यहां आने वाले लोग अब इस तमाम इतिहास को देखने से मरहूम रह जा रहे हैं. वहां के स्टॉफ से वजह पूछने पर पता चलता है कि इसे पिछले कई महीनों से मेंटनेंस के लिए बंद किया गया है, लेकिन हकीकत में वहां कोई काम होता हुआ दिख नहीं रहा था.

आधिकारिक तौर पर 685 करोड़ रुपये की लागत से 82.5 एकड़ में बने इस प्रेरणा स्थल की खूबसूरती शुरुआती दौर में देखते ही बनती थी. शानदार पार्क, पानी के फव्वारे और दर्जन भर प्रमुख बहुजन नायकों की आदमकद प्रतिमाएं दिल्ली से सटे नोएडा के प्रमुख केंद्र में बहुजन समाज के शानदार इतिहास की गवाही देती थी. रात को रोशनी में नहाए इस स्थल की खूबसूरती और बढ़ जाती थी. यह वहां से गुजरने वाले हर व्यक्ति का ध्यान खिंच लेती थी, लेकिन अब इसकी चमक फीकी होने लगी है.

जगह-जगह घास उग चुके हैं तो कई जगह दीवारों से पत्थर टूट कर गिर रहे हैं. कई जगहों पर पार्क घास के जंगल सरीखे दिख रहे हैं. कैंपस में मौजूद टायलेट बंद पड़े हैं, कई नलों से पानी नहीं आता. पत्थरों पर काई जम चुकी है जो लगातार इस इमारत को कमजोर कर रहे हैं. सबसे ज्यादा चिंता की बात यहां खड़े बहुजन नायकों की आदमकद प्रतिमाओं का खराब होना है.

दलित प्रेरणा स्थल में मौजूद बहुजन महापुरुषों की प्रतिमाएं बेहतर रख-रखाव के बिना खराब हो रही हैं

यहां बहुजन समाज के दर्जन भर प्रमुख संतों-महापुरुषों की आदमकद प्रतिमाएं लगी है. प्रतिमाओं के नीचे नायकों का परिचय है. लेकिन इन्हें देखने से साफ पता चलता है कि ये सभी प्रतिमाएं घोर उपेक्षा की शिकार हैं. महामना जोतिबा फुले की प्रतिमा के नीचे लिखा उनका परिचय गायब हैं तो संत शिरोमणि रविदास का परिचय धुंधला पर चुका है.

प्रेरणा स्थल पर लगी उद्धाटक की पट्टिका

बुद्ध से लेकर बिरसा मुंडा और संत कबीर से लेकर बाबासाहब आम्बेडकर और गाडगे महाराज की प्रतिमाओं पर काई का कब्जा हो चुका है जो इन प्रतिमाओं को खराब कर रही है. हां, मान्वयर कांशीराम की प्रतिमा इन तमाम उपेक्षाओं के बावजूद साफ-सुथरी खड़ी है, जैसे वह अकेले आज भी मनुवादियों से लोहा ले रहे हों.

दरअसल दलित प्रेरणा स्थल के उद्घाटन के एक साल बाद ही 2012 में हुए उत्तर प्रदेश के चुनाव में बसपा सत्ता से बाहर हो गई और मायावती को मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ी. उसके बाद आई सपा की सरकार ने भी इन बहुजन स्थलों की उपेक्षा की. वहीं भाजपा सरकार में तो नौबत तालेबंदी की आ गई है. जब हमने इस बारे में वहां के स्टॉफ से बात करनी चाही तो कैमरे के सामने आने को कोई तैयार नहीं था. इतना भर कहा गया कि सरकार ने रख-रखाव को काफी फंड दिया है. लेकिन यह वैसा ही है जैसे कहने को संविधान में दलितों के लिए तमाम अधिकार तो हैं, लेकिन अधिकार दिलाने वालों की नीयत साफ नहीं है. दलित प्रेरणा स्थल के बारे में भी सवाल सरकार की नीयत पर ही उठ रहे हैं जो नहीं चाहती की बहुजन अपने इतिहास को जाने.

सवाल है कि बहुजन समाज को स्वाभिमान और संबल देने वाला एक प्रमुख केंद्र सिर्फ इसलिए धाराशायी होने की ओर अग्रसर है क्योंकि सत्ता में बहुजन समाज नहीं है. बसपा शासन इस बात का उदाहरण है कि सत्ता के शिखर पर होते हुए बहुुजन समाज क्या कर सकता है और सत्ता में नहीं होने पर क्या खो सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.