उत्तर प्रदेश में कांग्रेस और प्रियंका गांधी का बड़ा दांव

70

उत्तर प्रदेश में चुनाव का दौर चल रहा है ऐसे में सभी राजनीतिक पर्टियों ने वोट बटोरने के लिए अपना राजनीतिक एजेंडा सेट कर लिया है। वहीं कांग्रेस की महासचिव और उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा भी पीछे नहीं है। उत्तर प्रदेश की सियासत में सबसे पीछे चल रही कांग्रेस को संभालने का जिम्मा लेने वाली प्रियंका गांधी ने वोट की खातिर महिलाओं और युवा लड़कियों को निशाने पर लिया है।

  “लड़की हुं लड़ सकती हूं” के नारे के साथ प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश के चुनावी समर में उतर गई हैं। लड़कियों को अपने पाले में करने के लिए प्रियंका गांधी ने 28 दिसंबर को लखनऊ के इकाना स्टेडियम में एक मैराथन रेस आयोजित किया।इसमें बड़ी संख्या में लड़कियां शामिल हुईं। प्रियंका गांधी इस मैराथन में जीतने वाली लड़कियों को इनाम के तौर पर स्कूटी, टैबलेट और स्मार्ट वॉच बांट रही हैं। उनकी इस पहल से साफ लग रहा है कि उन्होंने चुनाव जीतने के लिए अपने राजनीतिक एजेंडे के लिए महिलाओं को चुना है।

क्योंकि भाजपा के निशाने पर जहाँ हिंदू वोट हैं, बसपा का की नजर दलितों-पिछड़ों के साथ ब्राह्मण वोटरों पर है तो यादवों और मुस्लिम समाज पर सपा अपना दावा ठोक रही है। ऐसे में बिखरती हुई कांग्रेस के लिए भी ये जरूरी था कि वो एक ताकतवर एजेंडे के साथ अपना अस्तित्व बनाए रखे। ऐसे में जिस तरह से इस मैराथन के लिए स्टेडियम पर लड़कियों की भीड़ देखी गई उससे लगता है कि कांग्रेस अपने एजेंडे पर आगे बढ़ने में सफल होती दिख रही है। और प्रियंका का ये स्लोगन “लड़की हूं लड़ सकती हूं” उनकी पार्टी को वापस लड़ाई में लाता दिख रहा है।

क्योंकि जहां बात महिलाओं की आती है वहां हर जाति या धर्म की महिलाएं चाहे वो हिंदू या मुस्लिन, सवर्ण हों या दलित सभी शामिल होती हैं। वहीं उत्तर प्रदेश में महिलाओं की संख्या की बात करें तो 2011 के सेंसस के मुताबिक 1000  पुरुषों पर 908 महिलाएं हैं और इलैक्शन कमिशन के मुताबिक इनमें से 59.43 प्रतिशत पुरुषों के मुकाबले 63.26 प्रतिशत महिलाओं ने 2017 विधान सभा चुनाव में वोट किया था। यानी एक बहुत ही बड़े तबके पर कांग्रस का फोकस है। जो तख्ता पलट करने के लिए काफी है। अब देखना ये है कि कांग्रेस को अपने इस नए एजेंडे से 2022 में हो रहे यूपी के विधान सभा चुनाव में कितना फायदा होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.