त्रिकोणीय हुआ यूपी चुनाव, मजबूती से उभरी बसपा

102

चौथे चरण के चुनाव के बाद उत्तर प्रदेश की राजनीति बदलती नजर आ रही है। जिस बहुजन समाज पार्टी को पीछे बताया जा रहा था, वह चुपके से आगे बढ़ती जा रही है। बसपा के साथ कैडर वोटों के अलावा कई क्षेत्रों में ब्राह्मण और मुस्लिम वोटों के जुड़ने की खबर से भाजपा और सपा दोनों में बेचैनी है। इस नई खबर से उत्तर प्रदेश का चुनाव रोचक होता जा रहा है। आखिर हम यह बात किस आधार पर कह रहे हैं, और क्या है जमीनी हकीकत… आईए, हम आपको बताते हैं-

चौथे चरण के चुनाव में लखनऊ में अपने बूथ पर वोट डालने के बाद बसपा प्रमुख मायावती ने चुनाव परिणाम में सबको चौंकाने की बात एक बार फिर दोहराई और दावा किया कि 2007 की तरह बहुजन समाज पार्टी एक बार फिर से प्रदेश में सरकार बनाएगी। मायावती यह दावा पहले दिन से कर रही हैं। अगर बहनजी का दावा सच निकल गया तो यह भारत की राजनीति का सबसे ज्यादा चौंकाने वाला चुनाव बन जाएगा।

 ऐसा होगा या नहीं यह 10 मार्च को सामने आएगा, लेकिन यह साफ है कि यूपी चुनाव उलझता हुआ दिख रहा है। भले ही समाजवादी पार्टी और भाजपा सत्ता में आने का जोरदार दावा कर रही है और ज्यादातर मीडिया समूह और राजनीतिक विश्लेषक इस दावे पर मुहर भी लगा रहे हैं, लेकिन ऐसा कहने वाले लोग जमीन पर बसपा की ताकत को भूल रहे हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में बसपा को मिले 19 सीटों का हवाला देकर उसे कमजोर आंका जा रहा है। लेकिन उस चुनाव में बसपा को मिले वोट प्रतिशत की तरफ इन मीडिया समूहों और राजनीतिक विश्लेषकों का ध्यान नहीं है।

 दरअसल प्रो. विवेक कुमार इसे मीडिया और कुछ राजनीतिक विश्लेषकों की साजिश बताते हैं। उनका कहना है कि अगर बहुजन समाज पार्टी को उत्तर प्रदेश के चुनावों में भाजपा से सीधी लड़ाई में दिखाया गया तो बसपा के जीतने के आसार बढ़ जाएंगे, क्योंकि बसपा के पास उसका 20 प्रतिशत कैडर वोट बना हुआ है। बसपा की जीत की आहट से प्रदेश के 20 प्रतिशत अल्पसंख्यक और भाजपा से नाराज सवर्ण वोटर और गैर यादव पिछड़ी जातियों के वोटर बसपा के साथ आ सकते हैं। यह पूरा चुनावी खेल बदल सकता है। क्योंकि अगर ऐसा होता है, जो कि हो सकता है, तो बसपा की 19 सीटों को 119 और उससे भी आगे बढ़कर 219 होने से कोई दल नहीं रोक सकता।

दूसरी वजह, बहनजी ने जिस तरह से टिकटों का बंटवारा किया है, उसमें जाति और सोशल इंजीनियरिंग दोनों साफ नजर आ रहा है। टिकट बंटवारे में मायावती ने मुसलमान, पिछड़े और ब्राह्मण सभी का ख़्याल रखा है। यह 2007 का पैटर्न है। अगर ये उम्मीदवार अपने-अपने समाज के 5 प्रतिशत वोट भी ले आते हैं, तो बीएसपी का वोट प्रतिशत आसानी से 25 से तीस प्रतिशत तक जा सकता है।

तीसरी बात, 2017 का चुनाव भाजपा के लिए प्रचंड बहुमत का चुनाव था। लेकिन सीएसडीएस के आंकड़े बताते हैं कि भाजपा के लहर में भी बसपा को हर वर्ग का समर्थन मिला था। यह आंकड़ा काफी मायने रखता है। सीएसडीएस के आंकड़े के मुताबिक 2017 के चुनाव में बसपा को मिले वोटों का प्रतिशत देखें तो ब्राह्मण समाज का दो प्रतिशत वोट, राजपूत/भूमिहार का 6 प्रतिशत, वैश्व का चार प्रतिशत, जाट का तीन प्रतिशत जबकि अन्य अगड़ी जातियों का सात प्रतिशत वोट बसपा को मिला था। इसी तरह यादव समाज का 3 प्रतिशत, कुर्मी-कोईरी का 14, अन्य ओबीसी जातियों का 13 प्रतिशत, जबकि मुस्लिम समाज का 19 प्रतिशत वोट बसपा को मिला था। जाटव वोट निश्चित तौर पर सबसे ज्यादा 86 प्रतिशत था, जबकि गैर जाटव दलित समाज का वोट 43 प्रतिशत मिला था।

यहां यह ध्यान रखना होगा कि जब भाजपा अपने चरम पर थी, तब भी 14 प्रतिशत कोईरी कुर्मी समाज, 13 प्रतिशत अन्य ओबीसी, 43 प्रतिशत गैर जाटव दलित वोट, और 19 प्रतिशत मुस्लिम समाज का वोट बसपा को मिला था। यानी तब इन्होंने भाजपा और सपा को न चुन कर बसपा को समर्थन दिया था। इस बार तो भाजपा पहले जैसे लहर पर सवार भी नहीं है, तो क्या बहुजन समाज पार्टी सबको चौंकाते हुए कोई करिश्मा करने को तैयार है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.