महिला टीचर ने दलित बच्चों को चप्पलों की माला पहना मैदान में घुमाया

हरियाणा में सरकारी स्कूलों में बच्चों को अच्छी शिक्षा और संस्कार देने के दावे कितने सही हैं उसकी एक बानगी गांव सागरपुर के स्कूल में उस समय देखने को मिली. यहां कुछ बच्चें स्कूल चप्पल पहनकर पढाई करने के लिए पहुंचे थे. लेकिन स्कूल में सविता नामक टीचर ने बच्चों को इसी बात को लेकर प्रताड़ित किया और उनके गले में उन्हीं की चप्पलों की माला पहना दी और ग्राऊंड का चक्कर भी लगवाया.

छात्रों का आरोप है कि उनको स्कूल के चक्कर भी लगवाए और धमकी भी दी कि अगर आगे से ऐसा किया तो फिर से सजा दी जाएगी. वहीं इस घटना के सामने आने के बाद दलित परिवारों में रोष देखने मिला. तो वहीं गांव के कुछ दबंगो ने आरोपी टीचर को निर्दोष बताते हुए मामले को दबाने की कोशिश की.

लेकिन पीड़ित दलित छात्राओं ने भरी भीड़ में आरोपी महिला टीचर का नाम लेते हुए बताया की टीचर ने उसके बाल बांधने वाले रिबन से चप्पलों की माला बना कर उनके गले में डाली थी. र इस घटना के बारे में अपने परिजनों को न बताने की भी धमकी दी थी. वहीं आरोपी टीचर का कहना है कि उसने केवल चप्पल की माला पहनाने की बात कही थी.

वहीं स्कूल की प्रिंसिपल टीचर की गलती को स्वीकार रही है. उनका कहना है मामला शनिवार का है लेकिन उनको कल ही पता चला है. कुछ ग्रामीण उनके पास आए थे तो टीचर ने उनके सामने माफी मांगी थी और आगे से ऐसा ना करने की बात भी कही थी. आगे से ऐसा ना हो उसका ध्यान रखा जाएगा.

इसे भी पढ़े-पुलिस ने जारी की उमर खालिद के हमलावर की तस्वीर

  • दलित-बहुजन मीडिया को मजबूत करने के लिए और हमें आर्थिक सहयोग करने के लिये दिए गए लिंक पर क्लिक करेंhttps://yt.orcsnet.com/#dalit-dast

1 COMMENT

  1. ऐसे लोगो को तो शीक मिलनी चाहिये जिससे आगे स न करे क्यो की उनको पता नही ह की हम वी किन के कारण आआज टीचर बनेhttps://www.bahujanawaazsagar.com/2018/08/vedic-religion-buddha-dham.html?m=1#more ह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.