कहीं सपा-बसपा गठबंधन का सच ये तो नहीं?

0
2266
मायावती के साथ उनके भाई आनंद कुमार

उत्तर प्रदेश के उपचुनाव में बहुजन समाज पार्टी द्वारा समाजवादी पार्टी को समर्थन देने से देश की राजनीतिक हलचल तेज हो गई है. कई लोग इसे यूपी में बसपा-सपा के साथ आने के तौर पर देख रहे हैं तो वहीं प्रदेश में इसे भाजपा को रोकने की कवायद में दलित-पिछड़ा एकता के रूप में देखा जा रहा है. हालांकि इस गठबंधन पर न तो अखिलेश यादव खुलकर कुछ कह रहे हैं और न ही मायावती.

दोनों की यही चुप्पी एक तीसरी बात की ओर इशारा कर रही है. असल में उत्तर प्रदेश में बिछी इस सियासी बिसात का एक पहलू गोरखपुर और फुलपूर सीटों पर भाजपा को रोकना है तो वहीं दूसरा पहलू राज्यसभा और विधान परिषद में दोनों दलों का एक दूसरे की जरूरत होना है. आने वाले दिनों में उत्तर प्रदेश के कोटे से राज्यसभा की दस सीटें खाली होनी है. इसमें से 8 सीटों पर भाजपा की जबकि एक सीट पर समाजवादी पार्टी की जीत तय है. सारी गोलबंदी बची हुई एक सीट के लिए हो रही है. चर्चा है कि मायावती अपने भाई और बसपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष आनंद कुमार के लिए राज्यसभा की यह सीट चाहती हैं.

जहां तक आंकड़ों की बात है तो राज्यहसभा की एक सीट जीतने के लिए 37 वोट चाहिए. समाजवादी पार्टी के अभी 47 विधायक हैं. और राज्यसभा की एक सीट हासिल करने के बाद समाजवादी पार्टी के पास 10.64 वोट बच जाएंगे. बीएसपी के पास 19 वोट हैं. दोनों को जोड़ लिया जाए तो यह 29 के करीब हो जाता है. ऐसे में एक सीट के लिए बसपा को 8 और वोटों की जरूरत होगी, जिसमें 7 विधायक का समर्थन उसे कांग्रेस से मिल सकता है. जबकि एक अन्य समर्थन के लिए उसे निर्दलीय कोटे के तीन और राष्ट्रीय लोकदल के हिस्से की एक सीट पर निर्भर रहना होगा. संभव है कि मायावती इस सियासी गणित को साध लें और अपने भाई आनंद कुमार को राज्यसभा भेजने में सफल हो जाएं. लेकिन अगर यह सच है और गठबंधन की वजह सिर्फ सियासी लाभ है तो यह यूपी के दलित और पिछड़े वर्ग के साथ एक बड़ा धोखा होगा.

अशोक दास

अशोक दास

बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं।गोपालगंज कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।
'दलित दस्तक' मासिक पत्रिका के संस्थापक एवं संपादक। मई 2012 से लगातार पत्रिका का प्रकाशन। जून 2017 से दलित दस्तक के वेब चैनल (www.youtube.com/c/dalitdastak) की शुरुआत।
अशोक दास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.