पीएम की आक्रामकता के पीछे है यह डर

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार 7 फरवरी को लोकसभा और राज्यसभा में एक लंबा भाषण दिया. इस दौरान पीएम मोदी का रवैया काफी आक्रामक दिखा. तकरीबन सवा घंटे के भाषण में प्रधानमंत्री मोदी कांग्रेस पर जमकर हमला बोलते दिखे. पीएम के इस लंबे और आक्रामक भाषण की राजनीतिक विश्लेषक समीक्षा करने लगे हैं. पीएम के इस भाषण के बाद चुनाव जल्द होने की आशंका जताई जाने लगी है.

माना जा रहा है कि जिस तरह प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में कांग्रेस को आड़े हाथों लिया और जिन मुद्दों का ज़िक्र किया, उससे साफ है कि मोदी चुनावी मोड में आ गए हैं. भाषण से यह संकेत भी मिलने लगा है कि चुनाव पहले हो सकते हैं. हाल के दिनों में कांग्रेस का रवैया भी काफी आक्रामक हुआ है शायद इसलिए पीएम ने ज़्यादा आक्रामक होकर जवाब दिया है.

तो वहीं पीएम मोदी के इस भाषण पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था कि वो जनता को जवाब देने के बजाय कांग्रेस पर जुबानी हमले कर रहे हैं. राहुल गांधी ने कहा-“शायद नरेंद्र मोदी जी भूल गए हैं कि वो देश के प्रधानमंत्री हैं, विपक्ष के नेता नहीं. उनसे सवाल पूछे जा रहे हैं. किसानों के भविष्य का सवाल पूछा रहा है,रफ़ाल का सवाल पूछा जा रहा है, रोज़गार के सवाल पूछे जा रहे हैं, उनको जवाब देना चाहिए.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा था कि पीएम कांग्रेस पार्टी की बात करें, वो पब्लिक मीटिंग में ये बात करना चाहते हैं तो करें मगर यहां आपको देश को जवाब देना है. यहां आपको आरोप नहीं लगाने है. यहां आपको सवाल नहीं पूछने हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here