भीम आर्मी के समर्थन में नीला हुआ जंतर मंतर

Details Published on 25/05/2017 20:17:32 Written by Ashok Das


सहारनपुर प्रकरण के विरोध के लिए सजा  जंतर मंतर देखने लायक था. ऊपर आसमान नीला था और धरती पर जंतर मंतर. जिधर देखो उधर ही नीला. हजारों की भीड़ और सबसे अहम बात उस भीड़ में 99 फीसदी युवा. सब के सब अम्बेडकरवादी. ‘जय भीम’ वाले. सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में ठाकुरों से लोहा लेने वाले भीम आर्मी के अध्यक्ष चंद्रशेखर रावण के समर्थन के लिए देश भर से युवाओं का जत्था जंतर मंतर पर पहुंचा था. बल्कि सच कहें तो असल में युवाओं की यह भीड़ सिर्फ चंद्रशखर रावण को समर्थन देने नहीं पहुंची थी, बल्कि युवाओं का यह जत्था उस युवक और उस संगठन के लिए सामने आया था जिसने ठाकुरों के अत्याचार के आगे झुकने की बजाय उनसे पंगा लिया और खुद को ‘ग्रेट चमार’... Read More

सहारनपुर में दलित लड़ रहे हैं इंसाफ की लड़ाई

Details Published on 11/05/2017 13:39:09 Written by अशोक दास


पिछले बीस दिनों में सहारनपुर तीन बार हिंसा में जल चुका है. शांति क़ायम करने के लिए प्रशासन ने सभी पक्षों के साथ बैठक की. इसमें दलित और ठाकुरों के साथ-साथ तमाम राजनीतिक दलों ने भी हिस्सा लिया. लेकिन ऐसा क्यों हुआ कि वहां का प्रशासन तभी जगा जब दलित समाज के लोग ठाकुरों पर पलटवार करने लगे? क्योंकि पुलिस को तब तक कोई दिक्कत नहीं थी; जब तक दलित और मुसलमानों के बीच तनाव की खबरें आ रही थी. लेकिन जैसे ही दलित युवाओं ने ठाकुरों को खदेड़ना शुरू किया, अघोषित हिन्दू राज्य का प्रशासन सजग हो गया. 20 अप्रैल को सड़क दुधली में बाबासाहेब डॉ. अम्बेडकर के जुलूस के बहाने दलितों और मुसलमान के बीच एक खाई पैदा करने की कोशिश की गई. मक़सद हिन्दू... Read More

देश का किसान संसद के सामने नंगा हो गया, मीडिया पीएम का मेट्रो सफरनामा दिखाता रहा

Details Published on 11/04/2017 15:02:34 Written by अशोक दास


जब लिख रहा हूं घटना उससे एक दिन पहले यानि बीते कल सोमवार की है. जंतर-मंतर पर पिछले 28 दिनों से धरना दे रहे तमिलनाडु के किसानों का धैर्य सरकारी धोखाधड़ी देखकर जवाब दे गया. पुलिस इन्हें पीएम से मिलवाने के लिए साउथ ब्लॉक ले आई. कहा गया कि पीएम से इनकी मुलाकात करवाई जाएगी. लेकिन पीएम को वक्त नहीं था. वह तो आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री को मेट्रो पर बिठाकर अक्षरधाम घुमाने ले गए थे. नतीजा, घर बार छोड़कर इंसाफ की आस में दिल्ली में बैठे किसानों की सब्र का बांध टूट गया.  प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात नहीं हो पाने से निराश किसानों ने साउथ ब्लॉक स्थित प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के बाहर सड़क पर ही नग्न होकर विरोध प्रदर्शन किया.... Read More

कांशीरामजी की साझी लड़ाई के सूत्र से सत्ता में पहुंची है भाजपा

Details Published on 19/03/2017 23:00:16 Written by अशोक दास


आज उत्तर प्रदेश में नई सरकार ने शपथ ले ली. मंच की भीड़ साझी लड़ाई की कहानी बयां कर रही थी. ऐसी कहानी  कांग्रेस ने भी गढ़ी थी, लेकिन वहां मुख्यधारा से दलित और पिछड़े गायब थे. थे भी तो ज्यादातर वक्त मजह औपचारिक खानापूर्ति के.  दलितों और पिछड़ों को केंद्र में रखकर ऐसी कहानी सबसे पहली बार बहुजन राजनीति के सूत्रधार मान्यवर कांशीराम ने गढ़ी थी. मान्यवर के उसी सूत्र को पकड़ कर भारतीय जनता पार्टी आज उस उत्तर प्रदेश की सत्ता पर कब्जा जमाए बैठी है, जिसे मान्यवर कांशीराम राजनीतिक शब्दावली में शरीर का ‘गर्दन’ कहा करते थे. और उन्हीं की पैदा की हुई बहुजन समाज पार्टी बाहर दूर खड़ी तमाशबीन बनी है. मंच की भीड़ कोई आम भीड़ नहीं थी.... Read More

बसपा प्रमुख को चिट्ठी

Details Published on 11/03/2017 17:26:34 Written by Ashok Das


आदरणीय मायावती जी,सादर जय भीम। उत्तर प्रदेश में बसपा हार गई है. हारी ही नहीं बल्कि बुरी तरह हार गई है. इतनी बुरी तरह; जिसकी उम्मीद किसी को नहीं थी. जल्दी ही यह भी साफ हो जाएगा कि वह कहां कितने वोटों से हारी और कहां किस नंबर पर रही. लेकिन बसपा का इस तरह हार जाना भारत ही नहीं बल्कि विदेशों में बसे लाखों-करोड़ों अम्बेडकरवादियों तक को निराश कर गया है. हालांकि इस हार के बाद आपने ईवीएम की गड़बड़ी की तरफ इशारा करते हुए यह मांग की है कि पुरानी बैलेट प्रणाली के तहत चुनाव कराया जाए. मैं इसको लेकर आपका समर्थन करता हूं. संभव है कि बहुजन समाज पार्टी के विरोधी इस बात के लिए आप पर तंज कसें लेकिन उन्हें यह भी याद रखना चाहिए कि पूर्व में... Read More

यूपी की जनता बनाम जनतंत्र

Details Published on 03/03/2017 16:33:55 Written by अशोक दास


हमारे लिए भी यह अहम सवाल है कि आखिर देश के सबसे बड़े प्रदेश उत्तर प्रदेश में किसकी सरकार बनेगी. यह तय है कि सरकार उसी की बनती है जिसे जनता अपना वोट, अपना समर्थन देती है और आप ही लोग जनता जनार्दन हो, बनने वाली सरकार के माई-बाप हो. वक्त कम है सो इस बार घुमा फिरा कर बात नहीं करते हैं. संवाद सीधा होता है तो सीधा पाठकों तक पहुंचता भी है।तो मैं ये कह रहा था कि किसी भी प्रदेश में उसी की सरकार बनती है जिसे वहां की जनता चुनती है, वोट करती है. अब सवाल यह है कि उत्तर प्रदेश की जनता अपने प्रदेश में किसकी सरकार चाहती है. और सरकार चुनने और किसी पार्टी को वोट देने का आपका आधार क्या है? प्रदेश में फिलहाल बहुजन समाज पार्टी, समाजवादी पार्टी और... Read More

26 जनवरी को डा. अम्बेडकर को सम्मान क्यों नहीं?

Details Published on 25/01/2017 23:55:22 Written by अशोक दास


तकरीबन ढाई दशक पहले आरपीआई के एक नेता ने संसद में यह प्रश्न उठाया था कि जिस तरह 15 अगस्त से पहले लाल किले पर झंडोत्तोलन के लिए जाते वक्त प्रधानमंत्री राजघाट पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देते हैं, उसी तरह गणतंत्र दिवस 26 जनवरी के दिन राष्ट्रपति इंडिया गेट पर जाने से पहले संसद भवन स्थित संविधान निर्माता डा. भीमराव अम्बेडकर को याद क्यों नहीं करती?  सवाल सीधा और सपाट था सो सरकार ने भी इसका सीधा सा जवाब दे दिया. सरकार का कहना था कि इस मौके पर किसी भी राष्ट्रीय नेता को श्रद्धांजलि नहीं दी जाती, इसलिए डा. अम्बेडकर को भी सम्मानित नहीं किया जाता है.जवाब आने के बाद सब कुछ पहले जैसा हो गया. इस बीच रतनलाल केन नाम के एक व्यक्ति... Read More

Page 1 of 4

  • Share this:
  • Google+
  • LinkedIn
  • Youtube

Journey of Dalit Dastak

Opinion

View More Article