कांशीरामजी की साझी लड़ाई के सूत्र से सत्ता में पहुंची है भाजपा

Details Published on 19/03/2017 23:00:16 Written by अशोक दास


आज उत्तर प्रदेश में नई सरकार ने शपथ ले ली. मंच की भीड़ साझी लड़ाई की कहानी बयां कर रही थी. ऐसी कहानी  कांग्रेस ने भी गढ़ी थी, लेकिन वहां मुख्यधारा से दलित और पिछड़े गायब थे. थे भी तो ज्यादातर वक्त मजह औपचारिक खानापूर्ति के.  दलितों और पिछड़ों को केंद्र में रखकर ऐसी कहानी सबसे पहली बार बहुजन राजनीति के सूत्रधार मान्यवर कांशीराम ने गढ़ी थी. मान्यवर के उसी सूत्र को पकड़ कर भारतीय जनता पार्टी आज उस उत्तर प्रदेश की सत्ता पर कब्जा जमाए बैठी है, जिसे मान्यवर कांशीराम राजनीतिक शब्दावली में शरीर का ‘गर्दन’ कहा करते थे. और उन्हीं की पैदा की हुई बहुजन समाज पार्टी बाहर दूर खड़ी तमाशबीन बनी है. मंच की भीड़ कोई आम भीड़ नहीं थी.... Read More

बसपा प्रमुख को चिट्ठी

Details Published on 11/03/2017 17:26:34 Written by Ashok Das


आदरणीय मायावती जी,सादर जय भीम। उत्तर प्रदेश में बसपा हार गई है. हारी ही नहीं बल्कि बुरी तरह हार गई है. इतनी बुरी तरह; जिसकी उम्मीद किसी को नहीं थी. जल्दी ही यह भी साफ हो जाएगा कि वह कहां कितने वोटों से हारी और कहां किस नंबर पर रही. लेकिन बसपा का इस तरह हार जाना भारत ही नहीं बल्कि विदेशों में बसे लाखों-करोड़ों अम्बेडकरवादियों तक को निराश कर गया है. हालांकि इस हार के बाद आपने ईवीएम की गड़बड़ी की तरफ इशारा करते हुए यह मांग की है कि पुरानी बैलेट प्रणाली के तहत चुनाव कराया जाए. मैं इसको लेकर आपका समर्थन करता हूं. संभव है कि बहुजन समाज पार्टी के विरोधी इस बात के लिए आप पर तंज कसें लेकिन उन्हें यह भी याद रखना चाहिए कि पूर्व में... Read More

यूपी की जनता बनाम जनतंत्र

Details Published on 03/03/2017 16:33:55 Written by अशोक दास


हमारे लिए भी यह अहम सवाल है कि आखिर देश के सबसे बड़े प्रदेश उत्तर प्रदेश में किसकी सरकार बनेगी. यह तय है कि सरकार उसी की बनती है जिसे जनता अपना वोट, अपना समर्थन देती है और आप ही लोग जनता जनार्दन हो, बनने वाली सरकार के माई-बाप हो. वक्त कम है सो इस बार घुमा फिरा कर बात नहीं करते हैं. संवाद सीधा होता है तो सीधा पाठकों तक पहुंचता भी है।तो मैं ये कह रहा था कि किसी भी प्रदेश में उसी की सरकार बनती है जिसे वहां की जनता चुनती है, वोट करती है. अब सवाल यह है कि उत्तर प्रदेश की जनता अपने प्रदेश में किसकी सरकार चाहती है. और सरकार चुनने और किसी पार्टी को वोट देने का आपका आधार क्या है? प्रदेश में फिलहाल बहुजन समाज पार्टी, समाजवादी पार्टी और... Read More

26 जनवरी को डा. अम्बेडकर को सम्मान क्यों नहीं?

Details Published on 25/01/2017 23:55:22 Written by अशोक दास


तकरीबन ढाई दशक पहले आरपीआई के एक नेता ने संसद में यह प्रश्न उठाया था कि जिस तरह 15 अगस्त से पहले लाल किले पर झंडोत्तोलन के लिए जाते वक्त प्रधानमंत्री राजघाट पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देते हैं, उसी तरह गणतंत्र दिवस 26 जनवरी के दिन राष्ट्रपति इंडिया गेट पर जाने से पहले संसद भवन स्थित संविधान निर्माता डा. भीमराव अम्बेडकर को याद क्यों नहीं करती?  सवाल सीधा और सपाट था सो सरकार ने भी इसका सीधा सा जवाब दे दिया. सरकार का कहना था कि इस मौके पर किसी भी राष्ट्रीय नेता को श्रद्धांजलि नहीं दी जाती, इसलिए डा. अम्बेडकर को भी सम्मानित नहीं किया जाता है.जवाब आने के बाद सब कुछ पहले जैसा हो गया. इस बीच रतनलाल केन नाम के एक व्यक्ति... Read More

यूपी चुनावः ग्लैमर बनाम संघर्ष

Details Published on 24/01/2017 14:58:57 Written by अशोक दास


उत्तर प्रदेश चुनाव में समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के बीच समझौता होने के बाद एक चर्चा आम है. चर्चा है कि यहां चुनाव प्रचार में अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव और सोनिया गांधी की बेटी प्रियंका गांधी वाड्रा चुनाव प्रचार के लिए उतरेंगी. खबरों में यह भी कहा जा रहा है कि दोनों साथ उतर सकती हैं और ऐसे में वे दोनों बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती के लिए चुनौती बन सकती हैं. तर्क यह दिया जा रहा है कि लोगों के बीच इन दोनों का ग्लैमर ज्यादा काम करेगा और ये युवाओं को जोर पाएंगी.असल में यह तमाम अखबारों और वेबसाइटों पर चल रहा यह तर्क बेहद बेकार है. क्योंकि अगर लोग किसी नेता की सुंदर छवि को देख कर वोट देते तो फिर इस देश की सत्ता... Read More

बाप-बेटे के बीच झगड़ा नहीं रगड़ा हो रहा है जो चुनाव से ऐन पहले सुलझ जाएगा

Details Published on 09/01/2017 18:26:24 Written by Ashok Das


समाजवादी पार्टी का झगड़ा जिसे मैं रगड़ा कह रहा हूं, लखनऊ से दिल्ली पहुंच गया है. दिल्ली में चुनाव आयोग से मिलने के बाद मुलायम सिंह यादव ने कहा कि अखिलेश मेरा बेटा है उससे मतभेद दूर कर लेंगे. असल में मुलायम सिंह ने बाप-बेटे के रिश्ते की दुहाई देकर जो विश्वास जताया है वह विश्वास कभी टूटा ही नहीं था. आप पिछले तकरीबन तीन महीने जबसे समाजवादी पार्टी के परिवार का झगड़ा चल रहा है, कि मीडिया रिपोर्ट पर ध्यान दीजिए. इस बीच कभी भी न तो समाजवादी पार्टी के गुंडई की बात हुई न ही भ्रष्टाचार की, और न ही परिवारवाद की. बस बाप-बेटे और परिवार के बीच इमोशन झगड़े की चर्चा ही होती रही. इस बीच चुनाव की तारीख घोषित होने तक यह ड्रामारूपी झगड़ा अपने... Read More

दलित समाज के लिए शर्म की बात, शहीद उधम सिंह के परपोते को एक अदद नौकरी की तलाश

Details Published on 03/01/2017 18:30:18 Written by Ashok Das


यह खबर मुझे एक चैनल के वेबसाइट पर पढ़ने को मिली. हेडिंग थी- ‘जनरल डायर को मारने वाले शहीद उधम सिंह के परपोते को नहीं मिल रही चपरासी की नौकरी’ खबर पढकर मुझे लगा कि जैसे हमारे दलित समाज की इज्जत को चौराहे पर निलाम किया जा रहा है. हो सकता है कि खबर लिखने वाले पत्रकार की ऐसी मंशा ना हो और उसने अपनी खबर को सनसनी बनाने के लिए यह हेडिंग दी हो, लेकिन चूंकि मैं क्रांतिकारी शहीद उधम सिंह के बलिदान के बारे में जानता हूं इसलिए मुझे यह खबर अखर गई. लेकिन पहले उधम सिंह के परपोते जग्गा सिंह के बारे में जानते हैं. फिर दूसरी बात.शहीद उधम सिंह के परपोते पंजाब सरकार में नौकरी पाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं. नौकरी के नाम पर वह दस साल से पंजाब... Read More

Page 1 of 4

  • Share this:
  • Google+
  • LinkedIn
  • Youtube

Journey of Dalit Dastak

Opinion

View More Article