चंद्रशेखर से प्रियंका गांधी की मुलाकात के बाद यूपी की सियासत में हड़कंप

0
110
मेरठ के एक अस्पताल में
भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखऱ से मिलने पहुंची प्रियंका गांधी

लखनऊ। मंगलवार को देवबंद में एक कार्यक्रम के दौरान धारा 144 का उल्लंघन करने के आरोप के बाद गिरफ्तारी औऱ फिर तबियत खराब होने के बाद मेरठ के अस्पताल में भर्ती चंद्रशेखर रावण से कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की बुधवार शाम को मुलाकात के बाद उत्तर प्रदेश का सियासी पारा अचानक चढ़ गया. इस मुलाकात के बाद भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद के कांग्रेस में आने की अटकलें तेज हो गई हैं. यह चर्चा इसलिए भी जोर पकड़ रही है क्योंकि बसपा औऱ इसकी मुखिया मायावती ने चंद्रशेखर आजाद को अब तक कोई भाव नहीं दिया है. ऐसे में वह भी ठिकाना खोज रहे हैं.

इस मुलाकात के दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया भी प्रियंका गांधी के साथ मौजूद थे. इस मुलाकात के बाद प्रियंका गांधी औऱ चंद्रशेखर आजाद का जो बयान आया है, वह भी नयी सियासत का संकेत दे रहा है. चंद्रशेखर से मिलने के बाद प्रियंका गांधी ने पत्रकारों से कहा कि ‘ये अहंकारी सरकार है जो युवा की आवाज कुचलना चाहती है. ये नौजवान हैं, रोजगार तो सरकार ने दिया नहीं, अगर संघर्ष कर रहे हैं तो करने दीजिए. ये सरकार नौजवान की आवाज उठाना नहीं चाहती है.’ प्रियंका गांधी ने इस मुलाकात के राजनीतिक मायने होने से इंकार किया.

तो दूसरी ओर प्रियंका गांधी से मुलाकात के बाद चंद्रशेखर आजाद ने प्रियंका गांधी को बहन बताया. भीम आर्मी प्रमुख ने कहा, “उन्होंने मेरी तबीयत के बारे में जाना. मैं बहुजन समाज में पैदा हुआ हूं और बहुजन समाज में ही मरूंगा. प्रधानमंत्री मोदी जहां से चुनाव लड़ेंगे, वहां से मैं भी लड़ूंगा. हम मोदी जी को हराएंगे और उन्हें गुजरात भेजेंगे. मैं गठबंधन को समर्थन दूंगा.’

हालांकि चंद्रशेखऱ आजाद ने एक बार फिर मायावती को सपोर्ट देने की बात दोहराई है. हालांकि अखिलेश यादव को लेकर उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा है कि उन्हें प्रोमोशन में आरक्षण पर अपना रुख साफ कर देना चाहिए. लेकिन इस मुलाकात से यह साफ है कि उत्तर प्रदेश में जमीन तलाश रही कांग्रेस पार्टी को चंद्रशेखर आजाद और भीम आर्मी के रूप में दलित वोटों को अपने पाले में खिंचने की एक नई उम्मीद दिख रही है.

15 मार्च को दिल्ली में बहुजन हुंकार रैली की घोषणा

चंद्रशेखर आजाद ने 15 मार्च को दिल्ली में बहुजन हुंकार रैली करने का ऐलान किया है. उन्होंने कहा, “15 मार्च को दिल्ली में बहुजन हुंकार रैली होगी. इसमें बड़ी संख्या में लोग भाग लेंगे. चाहे जो इसे रोकने का प्रयास करे, अब यह रुकेगी नहीं.”

अशोक दास

अशोक दास

बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं।गोपालगंज कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।
'दलित दस्तक' मासिक पत्रिका के संस्थापक एवं संपादक। मई 2012 से लगातार पत्रिका का प्रकाशन। जून 2017 से दलित दस्तक के वेब चैनल (www.youtube.com/c/dalitdastak) की शुरुआत।
अशोक दास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.