अमेरिका नहीं चाहता भारत बने सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य

unsc

वाशिंगटन। संयुक्त राष्ट्र में भारत की स्थायी सदस्या को लेकर अमेरिका की तरफ से बड़ा बयान आया है. संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निक्की हैली ने कहा है कि यदि भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता चाहता है तो उसे ‘‘वीटो पर अपनी रट छोड़नी होगी.’’ इसके साथ ही निक्की हैली ने इस बात को भी रेखांकित किया कि रूस और चीन दो ऐसी वैश्विक शक्तियां हैं जो सुरक्षा परिषद के मौजूदा ढांचे में बदलावों के खिलाफ हैं.

हैली ने अमेरिका भारत मैत्री परिषद द्वारा आयोजित एक समारोह में कहा, ‘संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में यह सुधार वीटो से कहीं अधिक बड़ी चीज है. सुरक्षा परिषद के पांचों स्थायी सदस्यों के पास वीटो का अधिकार है. रूस, चीन, अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के पास यह शक्ति है और इनमें से कोई इसे छोड़ना नहीं चाहता. इसलिए सुरक्षा परिषद में भारत को शामिल करने की कुंजी इस बात में है कि वह वीटो का राग अलापना बंद करे’.

निक्की हेली से जब इस संबंध में अमेरिका के रुख पर सवाल किया गया तो उन्होंने सकारात्मक जवाब दिया. हेली ने दावा किया कि अमेरिका सुरक्षा परिषद में सुधार के लिए तैयार है और हमेशा इस पर जवाब देता है.

हालांकि, उन्होंने ये भी कहा कि अमेरिकी कांग्रेस या सीनेट की सुरक्षा परिषद सुधारों में कोई बहुत अधिक भूमिका नहीं है. उन्होंने कहा, ‘सही बात कहूं तो वे सही मायने में कुछ नहीं कर सकते. क्योंकि सुरक्षा परिषद का स्वरूप कैसा हो? इस मसले पर सुरक्षा परिषद के सदस्य कांग्रेस की बात नहीं सुनेंगे’.

2 COMMENTS

  1. sir i m a govt. servant in Rajasthan jodhpur
    i trouble with castism problem what can i do
    i m disturb with mentally give me suggestion

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here