भीम आर्मी के समर्थन में नीला हुआ जंतर-मंतर

0
3623

सहारनपुर प्रकरण के विरोध के लिए सजा  जंतर मंतर देखने लायक था. ऊपर आसमान नीला था और धरती पर जंतर मंतर. जिधर देखो उधर ही नीला. हजारों की भीड़ और सबसे अहम बात उस भीड़ में 99 फीसदी युवा. सब के सब अम्बेडकरवादी. ‘जय भीम’ वाले. सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में ठाकुरों से लोहा लेने वाले भीम आर्मी के अध्यक्ष चंद्रशेखर रावण के समर्थन के लिए देश भर से युवाओं का जत्था जंतर मंतर पर पहुंचा था. बल्कि सच कहें तो असल में युवाओं की यह भीड़ सिर्फ चंद्रशखर रावण को समर्थन देने नहीं पहुंची थी, बल्कि युवाओं का यह जत्था उस युवक और उस संगठन के लिए सामने आया था जिसने ठाकुरों के अत्याचार के आगे झुकने की बजाय उनसे पंगा लिया और खुद को ‘ग्रेट चमार’ कह कर संबोधित किया.

असल में आज का बहुजन युवा, खासकर दलित युवा राजनैतिक भागेदारी के लिए छटपटा रहा है. वह किसी ऐसे नेता को चाहता है जो उनके लिए लड़ने को खड़ा हो. जो दलित समाज का दुख समझे, दलितों पर होने वाले अत्याचार पर पलटवार करने की हिम्मत रखता हो और अपनी जाति पर शर्मिंदा होने की बजाय उस पर गर्व करे. सहारनपुर की घटना के बहाने युवाओं को चंद्रशेखर रावण में अपना हीरो दिखाई दिया है.

अपने ऊपर गर्व करने और राजनैतिक भागेदारी की छटपटाहट ही थी कि बिना किसी राजनैतिक संगठन के बुलाए ही युवा आंदोलन के लिए तय वक्त से पहले ही जुटना शुरू हो गए थे. विभिन्न जगहों से आए युवाओं में समानता थी तो बस ‘जय भीम’ की. तमाम लोग एक-दूसरे को जानते नहीं थे. लेकिन दलित समाज के सम्मान की खातिर सब एकजुट होकर एक छतरी के नीचे खड़े थे. हो सकता है कि यह आंदोलन ज्यादा दिन न टिक सके और जंतर मंतर से लौटे युवा फिर से अपनी दुनिया में व्यस्त हो जाएं, लेकिन उन्होंने अपनी राजनैतिक भागेदारी की जरूरत को तो बता ही दिया है.

इस आंदोलन से दलित राजनीति का दंभ भरने वाले नेताओं ने कितनी सीख ली ये तो वक्त बताएगा, लेकिन बहुजन युवाओं ने उनके लिए अपना संदेश दे दिया है. उन्होंने बता दिया है कि वो संगठित होना चाहते हैं, बाबासाहेब और मान्यवर कांशीराम के सपनों का भारत ही उनका भारत है और उन्हें बस एक मौका चाहिए.

अशोक दास

अशोक दास

बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं।गोपालगंज कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।
'दलित दस्तक' मासिक पत्रिका के संस्थापक एवं संपादक। मई 2012 से लगातार पत्रिका का प्रकाशन। जून 2017 से दलित दस्तक के वेब चैनल (www.youtube.com/c/dalitdastak) की शुरुआत।
अशोक दास
SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here