कुहरा नहीं दिल्ली-एनसीआर में स्मॉग है

smog

नई दिल्ली। दिल्ली में सर्दी बढ़ते ही धुंध ने भी अपने पैर पसारना शुरु कर दिए हैं. मंगलवार (7 नवंबर) की सुबह दिल्ली में धुंध की मोटी चादर बिछी रही जिसके चलते दिखना तक दूभर हो गया है. प्रदूषण का स्तर खतरे के निशान से आगे निकल गया है. इसके मद्देनजर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने दिल्ली सरकार को खत लिखा है कि वो स्कूल में आउटडोर गेम्स पर रोक लगाएं. प्रदूषण के स्तर को देखते हुए सुबह की सैर पर भी लोग कम दिखाई पड़े.


मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दिल्ली के लोधी रोड की हवा की गुणवता बेहद खराब श्रेणी में थी. इसी तरह राजधानी के अलावा नोएडा, फरीदाबाद और गाजियाबाद में एयर क्वालिटी इंडेक्स 400 के पार पहुंच गया है. बताया जा रहा है कि अगर प्रदूषण की स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो इस बार सर्दी की वजह से नहीं बल्कि प्रदूषण के चलते स्कूल बंद करने पड़ेंगे. मंगलवार की सुबह धुंध के कारण करीब 500 मीटर दूर तक देखना मुश्किल रहा. सुबह 7.30 बजे के बाद भी धुंध का बरकरार थी. धुंध की वजह से वाहनों गति भी धीमी दिखी.

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली प्रदूषण को देखते हुए दिवाली पर पटाखा बैन किया था. इसके अलावा दिल्ली सरकार भी प्रदूषण को लेकर कसर कस ली है. दरअसल दिल्ली सरकार ऑड-इवन को लेकर विचार कर रही है. हाल में ही दिल्ली सचिवालय से जारी एक पत्र में दिल्ली परिवहन निगम को दिशा-निर्देश जारी किए थे कि दिल्ली में कभी भी ऑड-ईवन स्कीम की घोषणा हो सकती है. ऐसे में डीटीसी पर्याप्त मात्रा में बसों की व्यवस्था रखे.

इस बाबत ट्रांसपोर्ट कमिश्नर के अलावा डीटीसी के एमडी के बीच 23 अक्टूबर को मीटिंग हो चुकी है. डीटीसी को आदेश दिया गया है कि वो सात दिन के भीतर एक्शन प्लान बनाए जिसमें बस/कंडेक्टर की व्यवस्था आदि के बारे में पूरी जानकारी हो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here