सहारनपुर हिंसा में दलितों ने 700 से ज्यादा लोगों के खिलाफ दी तहरीर

saharanpur

सहारनपुर। उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में जातीय हिंसा को लेकर तनाव अभी थमा नहीं है. मामला शांत होने के बाद अब दलित पक्ष ठाकुरों के विरोध में स्वर मुखर करता नजर आ रहा है. दलित पक्ष की ओर से सात सौ से अधिक ठाकुरों के खिलाफ तहरीर देकर कार्रवाई किए जाने की मांग की गई है. आरोपित ठाकुर पक्ष के लोगों पर दलितों के घर में तोड़फोड़ करने, आगजनी करने और मारपीट करने का आरोप लगाया गया है.

5 जुलाई को दलित पक्ष ने पुलिस को शिकायत पत्र देते हुए चार-चार अलग अलग तहरीर सौंपी हैं. जिनमें ठाकुर पक्ष के 24 नामजद लोगों को नामजद किया गया है जबकि 700 से ज्यादा लोगों के खिलाफ मारपीट और लूट का आरोप लगाया गया है. पुलिस ने जांच के बाद केस दर्ज करने का आश्वासन दिया है.

सहारनपुर के एक स्थानीय दैनिक में प्रकाशित खबर के मुताबिक जातीय हिंसा के इस मामले में चार अलग-अलग तहरीर सहारनपुर देहात के पुलिस अधीक्षक को सौंपी गई हैं. एक तहरीर में ठाकुर पक्ष के तीन सौ अज्ञात पर आगजनी और लूटपाट का आरोप लगाया गया है. दूसरी तहरीर में अनुज कुमार ने चार को नामजद किया है जबकि पांच अज्ञात लोग इसमें शामिल हैं. इसी तरह अन्य दो तहरीरों में भी ठाकुर पक्ष के कई लोगों को नामजद और सैंकड़ो अज्ञात लोगों को आरोपी बनाया गया है. पुलिस ने चारों तहरीर बडगांव थाने भेज दी हैं.

जातीय हिंसा की घटना के बाद 23 मई को पूर्व मुख्यमंत्री मायावती शब्बीरपुर गांव में दलितों का हाल जानने पहुंची थी. उनके वहां से जाने के बाद फिर से हिंसा भड़क गई थी. उस हिंसा में कुछ दंगाईयों ने आशीष नामक एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी थी. पुलिस इस मामले में आरोपी की तलाश में थी. पुलिस ने कई लोगों को गिरफ्तार भी किया था. जिसके मुख्य आरोपी सुधीर ने 6 जुलाई को अदालत में सरेंडर कर दिया है. अब आरोपी पुलिस रिमांड पर है.

बताते चलें, इस जातीय हिंसा के बाद कई नेताओं ने शब्बीरपुर का दौरा किया था. यहां तक कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर भी सहारनपुर पहुंचे थे. इस मामले में सपा और बीजेपी नेताओं पर दोनों पक्षों के लोगों को भड़काने का आरोप भी लगा है. हालांकि इस मामले में सबसे ज्यादा भीम आर्मी के चन्द्रशेखर का नाम सुर्खियों में रहा था.

ताजा मिली जानकारी के मुताबिक सब्बीरपुर प्रकरण मे कोर्ट ने आज सात लोगों की जमानत स्वीकार कर ली है. अब दलित पक्ष के कुल 20 लोग जेल से बाहर आ चुके हैं. जबकि ठाकुर पक्ष के एक भी व्यक्ति की अभी तक जमानत नहीं हो पायी है. ओर बाकी बचे 15 लोगो की जमानत भी जल्द ही करा ली जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here