गिरफ्तार हुए रयान इंटरनेशनल स्कूल के दो बड़े अधिकारी

गुरुग्राम। गुरुग्राम के रयान इंटरनेशनल स्कूल में 7 साल के बच्चे की बेरहमी से की गई हत्या के मामले में स्कूल मैनेजमेंट के दो सीनियर अधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. स्कूल के रीजनल हेड और एचआर हेड को गिरफ्तार किया गया है और दोनों को आज कोर्ट में पेश किया जाएगा. कुछ अन्य टीचरों से भी पूछताछ की जा रही है.

वहीं सोहना थाने के एसएचओ को भी सस्पेंड कर दिया गया है. स्कूल कम से कम मंगलवार तक बंद रहेगा. रयान इंटरनेशनल स्कूल मैनेजमेंट ने अभिभावकों को सूचित किया कि जूनियर और नर्सरी सेक्शन अगले आदेश तक बंद रहेंगे. हालांकि छठी से 12वीं तक के क्लास बुधवार को परीक्षा के लिए खुलेंगे. हत्या की जांच कर रही एसआईटी को स्कूल में कई खामियों का पता चला है.

ये भी पढ़ेंः खुलासा (पार्ट-1): मोदी सरकार ने छीन लिया दलितों के हक का 2 लाख 29 हजार करोड़ रूपए

वहीं पूरे मामले की जांच से प्रद्युम्न के पिता संतुष्ट नहीं हैं और उन्होंने इसके लिए सुप्रीम कोर्ट जाने का फैसला किया है. वो सर्वोच्च न्यायालय जाकर स्कूल के मालिकों से पूछताछ की मांग करेंगे. इस बीच खबर है कि हरियाणा पुलिस ने एक जांच दल मुंबई भेजा है जो वहां मौजूद स्कूल के मालिक से पूछताछ करेगा.

जांच टीम की रिपोर्ट के मुताबिक स्कूल में एक-दो नहीं, बल्कि कई स्तर पर लापरवाही बरती जा रही थी. एसआईटी ने अपनी जांच में पाया कि स्कूल में सीसीटीवी लगाने में गड़बड़ी की गई थी. साथ ही स्कूल के अंदर ड्राइवर और कंडक्टरों के लिए अलग से कोई टॉयलेट की व्यवस्था नहीं थी. स्कूल की बाउंड्री भी टूटी हुई थी और टॉयलेट बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं थे.

ये भी पढ़ेंः रेयान स्कूल की प्रिंसिपल सस्पेंड, बच्चे के मौत पर भड़के अभिभावक

एसआईटी के सदस्यों ने यह भी बताया कि स्कूल के कर्मचारियों की सही तरीके से पुलिस वेरिफिकेशन नहीं की जाती है. रविवार को नाराज लोगों ने स्कूल के पास के शराब के एक ठेके को आग के हवाले कर दिया. इसके बाद पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे लोगों पर लाठीचार्ज किया. कुछ मीडियाकर्मियों को भी चोटें आई हैं. अभिभावक लगातार स्कूल प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं.

मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने कहा है कि इस मामले में कोई नरमी नहीं बरती जाएगी और स्कूल प्रबंधन को जबावदेह ठहराया जाएगा. वहीं हरियाणा के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने रविवार को कहा कि इस मामले में आरोपपत्र सात दिन में तैयार होगा. बहरहाल, अगर बच्चे के माता-पिता सीबीआई या किसी दूसरी एजेंसी से जांच की मांग करते हैं तो सरकार उनकी मांग स्वीकार कर लेगी.

बीते शुक्रवार को स्कूल के टॉयलेट में दूसरी कक्षा के प्रद्युम्न ठाकुर की गला काटकर हत्या कर दी गई थी. इस हत्या के सिलसिले में बस कंडक्टर अशोक कुमार को गिरफ्तार किया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here