मुसलमानों के खिलाफ नियम बनाने वाली संस्था है संसदः औवेसी

नई दिल्ली। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (AIMIM) के विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी ने एक बार फिर से अपने भड़काऊ बयान से देश की विधायिका और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए तीखे शब्दों का इस्तेमाल किया है.

अकबरुद्दीन ओवैसी ने कहा कि आज मुल्क के सेकुलर लोग कहां हैं. अखलाक को मारा गया, नोमान को मारा गया, जुनैद को मारा गया…टोपी पहनना गुनाह है क्या? मुसलमान होना गुनाह है क्या? ओ विश्व हिंदू परिषद वालों, आरएसएस वालों, नरेंद्र मोदी सुन लो ये मुल्क किसी एक का नहीं. ये जितना तेरा है, मुल्क मेरा भी है. अगर हिंदू तिलक लगाकर घूम सकता है, तो मुसलमान भी टोपी पहन सकता है.

अकबरुद्दीन ओवैसी यहीं नहीं रुके. उन्होंने देश की विधायिका पर मुसलमानों के खिलाफ काम करने का भी आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि मुसलमानों की बर्बादी के कानून किसी चौक-चौराहे पर नहीं बल्कि संसद, विधानसभा जैसे सदनों में बनते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here