लालू की जिंदगी का फैसला कल

नई दिल्ली। 1996 का चारा घोटाला मामला जिसने राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद यादव को भ्रष्टाचार के आरोपों में घेर लिया था, उस पर जल्द ही फैसला आने वाला है. यह फैसला 23 दिसंबर यानि कल सुनाया जाएगा. इस अहम फैसले पर पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद व डॉ. जगन्नाथ मिश्र सहित अन्य 22 आरोपीयों के साथ साथ पूरे देश की नजर होगी.

आपको बता दें कि यह मामला 1996 का है जिसमें बिहार में पशुओं को खिलाये जाने वाले चारे के नाम पर 950 करोड़ रुपये सरकारी खजाने से फर्जीवाड़ा करके निकाल लिये गये थे, जिसके बाद से लालू यादव को मुख्यमन्त्री के पद से त्याग पत्र देना पड़ा था. इस घोटाले के कई आरोपियों का निधन हो चुका है तो वहीं दो आरोपी सरकारी गवाह बन गए हैं.

देखा जाए तो सीबीआई की विशेष अदालत में आने वाले इस अहम फैसले पर बिहार की राजनीति पूरी तरह से टिकी हुई है. अगर लालू प्रसाद यादव को कोर्ट ने दोषी ठहराया तो उन्हें तत्काल जेल जाना पड़ सकता है जिससे राजद में बिखराव आने की आशंका जताई जा रही है, यूँ तो तेजस्वी यादव लालू प्रसाद के उत्तराधिकारी के रूप में आरजेडी की कमान संभालेंगे लेकिन कई नेताओं का कहना ये भी है कि तेजस्वी को अभी राजनीति की उतनी समझ नहीं है, ऐसे में उनके लिए भी पार्टी की कमान को संभालना चुनौतियों से भरा होगा.

इस पूरे मामले में लालू प्रसाद यादव का कहना है कि हम पर और हमारे बच्चों पर केस कर के हमको नीचा दिखाने की कोशिश की गई, नीतीश कुमार, सुशील मोदी, बीजेपी और आरएसएस जानते हैं कि लालू से मुकाबला नहीं हो सकता है, इसलिए इसे रोक दो. साथ ही कल आने वाले फैसले पर उन्होने कहा कि उन्हे न्याय व्यवस्था पर पूरा विश्वास है और जो भी फैसला आएगा वो उन्हे मंजूर होगा.

पीयूष शर्मा

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here