अमेरिकी संसद में भारत की बात रखने वाले सांसद को मस्तिष्क कैंसर

वाशिंगटन। अमेरिका के वरिष्ठ सांसद जॉन मैक्केन जो भारत के बड़े समर्थक माने जाते हैं उन्हें एक गंभीर बीमारी मस्तिष्क कैंसर ने जकड़ लिया है. हाल में अस्वस्थ हुए मैक्केन की मेडिकल जांच में यह बात सामने आई है. मैक्केन सन 2008 के चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार थे.

हाल ही में पाकिस्तान के दौरे में मैक्केन ने वहां आतंकवाद के खिलाफ और काम करने की जरूरत बताई थी. पिछले 30 सालों से सांसद 80 वर्षीय मैक्केन नवंबर के चुनाव में छठी बार सीनेट के लिए चुने गए हैं. वह अमेरिकी नौसेना के पूर्व पायलट हैं. पिछले हफ्ते बाईं आंख में आए रक्त के थक्के को हटाने के लिए उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था, उसी दौरान हुए परीक्षणों की रिपोर्ट में कैंसर होने का पता चला है.

यह कैंसर बहुत तेजी से विकसित होने वाला है और यह अपने अंतिम चरण के नजदीक है. लेकिन शुरुआती इलाज से मैक्केन आराम महसूस कर रहे हैं. मैक्केन इस समय एरिजोना स्थित अपने आवास में आराम कर रहे हैं. कई सहयोगी सांसद उनसे मिलने पहुंचे हैं और उन्होंने वरिष्ठ सांसद के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है.

मैक्केन को देखने कांग्रेस के उनके सभी साथी पहुंचे और जल्‍द स्‍वस्‍थ हो जाने की कामना की. अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने ‘गेट वेल सून’ कहते हुए बताया कि ‘सीनेटर जॉन मैक्‍केन हमेशा फाइटर रहे हैं.‘ वहीं पूर्व डेमोक्रेटिक राष्‍ट्रपति बराक ओबामा ने मैक्‍केन को अमेरिकी हीरो बताया

मैक्‍केन अमेरिकी नेवी पायलट थे. 1967 में उनके विमान को वियतनाम में गिरा दिया गया और उन्‍होंने पांच साल से अधिक का समय युद्ध बंदी के तौर पर बिताया, जहां उन्‍हें प्रताड़ित भी किया गया था. मैक्‍केन को पहले भी कैंसर था. तीन बार वे इस स्‍थिति से उबर चुके हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here