एक देश और दो टैक्स है ‘जीएसटी’

gst-bill

नई दिल्ली। देशभर में आज से गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) लागू हो गया है. जीएसटी को लेकर चल रही हवाई अटकलें आज से खत्म हो गई. वास्तविक जीवन में जीएसटी असर आज से दिखने लगा है. लोगों को जीएसटी लागू होने से आर्थिक समस्याएं आने लगी है. सरकार के प्रति लोग अपना गुस्सा सोशल मीडिया पर भी जाहिर कर रहे हैं.

सोशल मीडिया पर भी लोगों ने रेस्टोरेंट में खाने-पीने के बिल के साथ अन्य खरीददारी के बिल भी पोस्ट कर रहे हैं. इन बिलों पर दो तरह के टैक्स लग रहे हैं. आप कुछ भी समान खरीदते हैं तो बिल में आपको दो तरह के टैक्स दिखाई देंगे. एक टैक्स राज्य सरकार के नाम से तो दूसरा टैक्स केंद्र सरकार के नाम से. ग्राहक अपने आप को ठगा से महसूस कर रहे हैं. प्रधानमंत्री सहित केंद्रिय मंत्रियों ने भी जीएसटी के जितने गुणगान किए थे, लागू होने के बाद सब फीके दिख रहे हैं.

प्रधानमंत्री ने कहा था कि जीएसटी के बाद पूरे देश में एक ही टैक्स लगेगा और अलग-अलग राज्यों में लगने वाले अलग-अलग टैक्स से आजादी मिलेगी. लेकिन वास्तविकता में केंद्र और राज्य अलग सर्विस टैक्स लग रहा है. इससे मीडिल और लोवर क्लास को नुक्सान होगा. उन्हें शॉपिंग मॉल से चीजें खरीदनी महंगी पड़ेंगी.

बीती रात संसद भवन के सेंट्रल हॉल में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जीएसटी लॉन्च किया. इस दौरान सिनेमा और उद्योग जगत से लकेर राजनीति की दिग्गज हस्तियां मौजूद थीं. करीब 800 लोगों की मौजूदगी में आधी रात को एक भव्य कार्यक्रम कर जीएसटी को लागू किया गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here