आईएसएई में मास्टर्स के लिए चुने गए 5 भारतीय, अगस्त में होंगे रवाना

Representative Image

फ्रांस के बहुप्रतिष्ठित अंतरिक्ष संस्थान ‘इंस्टीट्यूट सुपेरियर दे लाएयरोनॉटिक एत दे लाएस्पेस’ (आईएसएई) में दो वर्ष के स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम के लिए पांच भारतीयों का चुनाव किया गया है. चयनित भारतीय अगस्त में तुलूज के लिए रवाना होंगे. अंगूर के बागानों के लिए मशहूर तुलूज विशालकाय एयरबस तथा कई अन्य एयरोस्पेस कंपनियों व अनुसंधान केंद्रों का स्थान है, जहां अंतरिक्ष संस्थान आईएसएई भी स्थित है.

पंजाब की रहने वाली 22 वर्षीय इंजीनियरिंग की छात्रा आरती कालरा को जब पता चला कि उनका चुनाव फ्रांस के प्रतिष्ठित एयरोस्पेस के लिए हुआ है, तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा. आरती उन पांच मेधावी इंजीनियरिंग छात्रों में से ही एक हैं, जो आईएसएई-एमबीडीए प्रोग्राम ऑफ एक्सीलेंस के तहत फ्रांस के प्रतिष्ठित अंतरिक्ष संस्थान आईएसएई में चुने गए हैं. चंडीगढ़ की पीईसी यूनिवर्सिटी से स्नातक की पढ़ाई करने वाली आरती ने बताया कि जब अंतिम नतीजा आया तब मुझे ऐसा लगा मानों मेरे पंख लग गए हों. मेरे अंदर आसमान में उड़ने की इच्छा और मजबूत हो रही थी.

अमर उजाला बेव के मुताबिक लुधियाना के खन्ना कस्बे की रहने वाली आरती ने कहा कि मैं दुनिया को बताना चाहती हूं कि बेटियां कुछ भी कर सकती हैं. आरती के लिए यह बहुत ही गौरव की बात है. आरती के कॉलेज की मित्र राशिका जैन और दक्षिण भारत से तीन अन्य छात्रों को भी इस पूर्णकालिक छात्रवृत्ति के लिए चुना गया है. दक्षिण भारत से चेन्नई के एसआरएम यूनिवर्सिटी के ईशान प्रकाश (22), बेंगलूरू के एमएस रमैया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के कार्तिक वेंकटरमन और सागर शेनॉय मणिकर का चुनाव किया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here