2016 में इन महान हस्तियों ने दुनिया को कहा अलविदा

Details Published on 31/12/2016 15:29:49


58677fbae584f_2016-w.jpg

2016 में ऐसे लोगों ने भी इस दुनिया से विदा ली, जिन्हें लोग ईश्वर का दर्जा देते हैं. जिनके चमत्कारिक प्रतिभा से लोग प्रभावित हो जाते थे. इन महान हस्तियों का इतिहास के पन्ने पर सुनहरे अक्षरों से लिखा जाएगा...


फिदेल कास्त्रो 

क्यूबा के पूर्व राष्ट्रपति और क्रांतिकारी नेता फिदेल कास्त्रो का निधन भी इसी साल 26 नवंबर को हुआ. कास्‍त्रो क्‍यूबा के 17वें राष्‍ट्रपति रह चुके थे. वर्ष 2008 में कास्‍त्रो ने राजनीति से संन्‍यास ले लिया था लेकिन वह राजनीति में बराबर सलाहकार की भूमिका में रहे. कास्‍त्रो 17 साल तक क्‍यूबा के प्रधानमंत्री रहे और फिर 32 वर्ष तक उन्‍होंने बतौर राष्ट्रपति देश पर राज किया. वर्ष 1956 में कास्‍त्रो ने क्यूबा क्रांति की शुरुआत की थी. वर्ष 1959 में उन्होंने क्यूबा के तानाशाह बटिस्टा का तख्तापलट कर दिया. इसके बाद तो 


कास्‍त्रो नेशनल हीरो बन गए. अपने पूरे जीवन काल में उन्‍होंने जिसकी नाक में सबसे ज्‍यादा दम किया वो अमेरिका ही था. इसके चलते अमेरिका ने फिदेल कास्‍त्रो को मारने के लिए 638 तरीकों का इस्‍तेमाल किया, पर अमेरिका इसमें एक बार भी सफल नहीं हो पाया.


मोहम्मद अली 

मुक्केबाज मोहम्मद अली का 74 साल की उम्र में 3 जून को अमेरिका के फीनिक्स में निधन हो गया. अपने पिता की तरह सैनानी, कैशियस मार्सेलस क्ले, एक 19वीं सदी के किसान और गुलामी विरोधी योद्धा जिसने अपने पिता से विरासत में मिले 40 गुलामों को मुक्ति दिलाई. इन्होंने एक गुलामी विरोधी अखबार का संपादन किया, मैक्सिकन-अमेरिकी युद्ध में  सैनिकों के कमांडर रहे और राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन के तहत रूस के लिए मंत्री के रूप में सेवा की. 6 फीट 3 इंच लंबे अली ने अपने करियर में 61 फाइटें लड़ी और 56 जीतीं इनमें से 37 का फैसला नॉकआउट में हुआ. अली ने 12 साल की उम्र में बॉक्सिंग ट्रेनिंग शुरू की थी और सिर्फ 22 साल की उम्र में 1964 में सोनी लिस्टन को हराकर उलटफेर करते हुए वर्ल्ड हैवीवेट चैंपियनशिप जीत ली थी.


जयललिता

लंबी बीमारी के बाद बीते 5 दिसंबर को तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता जिंदगी की जंग हार गईं. अम्मा के नाम से जानी जाने वाली जयललिता के निधन की खबर के सदमे से उनके कई समर्थकों की मौत हुई. जयललिता ने मुख्यमंत्री रहते हुए कुछ ऐसे दमदार काम किए, जिनकी वजह से उनके समर्थक ही क्या, विपक्षी पार्टियां भी उनकी तारीफ करती हैं. यही वजह थी कि उनके समर्थक उनके लिए जान छिड़कते थे जिस तरह से जयललिता की अंतिम यात्रा में जन सैलाब उमड़ा, उससे साफ था कि अम्मा की जनकल्याणकारी योजनाओं ने लोगों के दैनिक जीवन को काफी हद तक बदलकर रख दिया था.




  • Comments(0)  


Journey of Dalit Dastak

Opinion

View More Article