मैक्सिको में आए भूकंप से 61 लोगों की मौत, सैकड़ों घायल

मैक्सिको। मैक्सिको के दक्षिणी तट पर आए भीषण भूकंप के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर 61 हो गई है. भूकंप के कारण सैकड़ों इमारतें ढह गईं. घबराए लोग आधी रात को सड़कों पर निकलने को मजबूर हो गए. देश के दूसरे हिस्से में ‘कातिया’ तूफान से निपटने की तैयारी में जुटे मैक्सिको के लिए यह दूसरी बड़ी राष्ट्रीय आपदा के रूप में उभरा है. इस तूफान के आज वेराक्रूज में खाड़ी तट पर पहुंचने की आशंका है. श्रेणी दो के इस तूफान से जानलेवा बाढ़ के आने का खतरा भी बना हुआ है.

मैक्सिको सिविल डिफेंस एजेंसी के प्रमुख ने दक्षिणी राज्य ओक्साका में 45 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है. अन्य 12 लोगों की मौत चियापास में हुई है और टबैस्को के खाड़ी तट पर भी तीन लोग मारे गए हैं. यूएसजीएस ने बताया कि भूकंप गुरुवार रात 11 बजकर 49 मिनट (स्थानीय समयानुसार) पर आया था.

राष्ट्रपति पेना नियेटो के मुताबिक भूकंप के कारण कम से कम 200 लोग घायल हो गए हैं. नेश्नल इमर्जेंसी कमेटी के प्रमुख लुइस फ़िलीपे पुएन्टे ने ट्विटर पर कहा, ”नेश्नल इमर्जेंसी कमेटी सात सितंबर के भूकंप के कारण फिलहाल 58 लोगों की मौत की ख़बर दे रही है.”

इसका केंद्र दक्षिण चियापास में तापाचुला से 165 किलोमीटर पश्चिम में जमीन से 69.7 किलोमीटर की गहराई में था. इसके कई घंटों बाद तक क्षेत्र में भूकंप के बाद के झटके महसूस किए गए. मैक्सिको की भूकंप संबंधी सेवा ने कहा कि भूकंप दक्षिणी चियापास राज्य के तटीय शहर तोनाला से करीब 100 किलोमीटर दूर प्रशांत सागर के अपतटीय इलाके में तकरीबन रात 11 बजकर 49 मिनट पर आया. अमेरिकी भूगर्भीय सर्वेक्षण ने भूकंप की तीव्रता 8.1 बताई. इतनी तीव्रता का भूकंप 1985 में आया था, जिसमें मैक्सिको सिटी में 10,000 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी.

यह देश में आया सबसे तबाही मचाने वाला भूकंप था. भूकंप इतना शक्तिशाली था कि उसने अपने केंद्र से करीब 800 किलोमीटर दूर उत्तर में स्थित मैक्सिको सिटी में भी घरों और इमारतों को हिला दिया और लोग बाहर भागने लगे. भूकंप के झटके देश के बड़े हिस्से में महसूस हुए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here