मूंछ रखने की वजह से एक और दलित पर हमला

दलित

गांधीनगर। गुजरात में लगातार दलितों पर हमले हो रहे हैं. पिछले पांच दिनों में गुजरात के अलग-अलग जगहों पर तीन दलितों पर हमले हो चुके हैं. तीन अक्टूबर को गांधीनगर के लिंबोदरा गांव में सवर्णों ने दलित किशोर पर चाकू से हमला कर दिया. इसी गांव में दो दिन पहले दरबार जाति के सवर्णों ने दो युवकों की मूंछ रखने के लिए दो दलितों की पिटाई कर दी थी. जिसके बाद सोशल मीडिया पर दलित युवा मूंछों के साथ सेल्फी डाल रहे थे.

हमले के बाद साणंद और उसके आसपास के करीब 300 दलितों ने अपने व्हाट्सऐप की डिस्प्ले पिक्चर पर मूंछ का लोगो लगाया है जिस पर “मिस्टर दलित” लिखा हुआ है और राजमुकुट का चिह्न बना हुआ है. तीन दिन पहले ही आणंद के बोरसाड़ गांव में एक दलित को एक मंदिर में गरबा देखने से नाराज सवर्णों ने पीट-पीट कर मार डाला.

ये भी पढ़ेंः गुजरात में 300 दलितों ने अपनाया बौद्ध धर्म

मंगलवार को हुई घटना गांधीनगर के लिम्बोदरा गांव में शाम को करीब 5.30 बजे हुई. किशोर स्कूल से वापस आ रहा था तभी कुछ लोगों ने उस पर हमला कर दिया. हमले के कुछ देर पहले ही किशोर ने इंडियन एक्सप्रेस से बात की थी और बताया था कि 25 सितंबर को जब 24 वर्षीय दलित युवक पीयूष परमार पर कथित तौर पर सवर्णों द्वारा मूंछ रखने की वजह से हमला हुआ तो वो भी वहां मौजूद था उसे भी मारापीटा गया था. परमार गांधीनगर की एक निजी बिजली आपूर्ति कंपनी में काम करते हैं. हमले के बाद 27 सितंबर को कलोल पुलिस थाने में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (उत्पीड़न) अधिनियम के तहत पुलिस में एफआईआर दर्ज करायी गयी.

29 सितंबर को कुणाल महरेजा नामक दलित युवक पर मूँछ रखने की वजह से हमला हुआ. कुणाल एक निजी टेलीकॉम कंपनी में काम करता है. मंगलवार को घायल हुए 17 वर्षीय किशोर की बहन काजल ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “उसे दर्द हो रहा है. उसे कई टांके लगे हैं. उस पर ब्लेड से हमला किया गया. हमें नहीं पता हमला करने वाले दो लोग कौन थे. वो घर भागते हुए आया. उसके पीठे से खून बह रहा था. हम तुरंत उसे गांधीनगर के सिविल अस्पताल ले गये.”

ये भी पढ़ेंः दलित युवाओं ने सोशल मीडिया पर शुरू किया अनोखा कैंपेन

काजल ने कहा, “उस पर पहली बार हमला हुआ तो हमने उसका नाम एफआईआर में नहीं दिया क्योंकि वो अभी स्कूल में पढ़ता है और हमें लगा इससे उसका भविष्य प्रभावित होगा. केवल पीयूष और कुणाल महेरिया ने एफआईआर करायी. लेकिन अब तो हद हो गयी. हम अपने गाँव में ही सुरक्षित नहीं हैं.”

गांधीनगर के पुलिस एसपी वीरेंद्र सिंह यादव ने कहा, “हम मामले की पड़ताल कर रहे हैं. हम ये सुनिश्चित करेंगे कि कोई भेदभाव नहीं हो. किशोर पर हमले के लिए आईपीसी की धारा 326 के तहत एफआईआर दर्ज कर ली गयी है.” पुलिस में दर्ज शिकायत के अनुसार किशोर पर हमला करने वाले मोटरसाइकिल पर सवार थे और उन्होंने अपना मुंह ढंक रखा था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here