दलित डॉक्टर ने कहा- जातिगत भेदभाव और मानसिक उत्पीड़न करता था प्रिंसिपल, मामला दर्ज

0
10498

पटना। बिहार के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच में बुधवार को प्रिंसिपल ने दलित जूनियर डॉक्टर को पीटा. सीनियर डॉक्टर और सुरक्षागार्ड की पिटाई से दलित डॉक्टर आलोक कुमार का एक कान का पर्दा फट गया है. डॉ. आलोक कुमार ने सीनियर डॉक्टर के खिलाफ पटना पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करवाई है.

उन्होंने पुलिस को दिए गए शिकायत पत्र में बताया की प्रिंसिपल एसएन सिंहा और उसके साथ तीन लोगों ने 16 नवंबर को सुबह मुझे लाठी-डंडे से पीटा और जातिसूचक गालिया भी दी. डॉ. आलोक कुमार ने आरोप लगाया कि प्रिंसिपल सिंहा ने उनके साथ जातिगत भेदभाव करते आए है और उनका मानसिक उत्पीड़न भी कर रहै थे.अपनी शिकायत पत्र में डॉ. आलोक ने कहा कि प्रिंसिपल अपने आप को बचाने के लिए मुझ पर गलत इल्जाम लगा रहे हैं और केस वापस लेने की धमकी दे रहे है.  इसके अलावा वो मेरा कैरियर बर्बाद करने भी धमकी दे रहे हैं.

डॉक्टर का पीएमसीएच में इलाज चल रहा है. पीड़ित जूनियर डॉक्टर आलोक कुमार ने प्रिंसिपल पर दलित उत्पीड़न का केस दर्ज कराया है. बदले में प्रिंसिपल एसएन सिन्हा ने डॉ.अलोक पर सरकारी काम में बाधा डालने का काउंटर केस कर दिया है. हालांकि डॉक्टर की पिटाई के विडियो में प्रिंसिपल सिन्हा दलित डॉक्टर पर ताबड़तोड़ थप्पड़ मारते नजर आ रहे हैं.

गौरतलब है कि मामला पटना मेडिकल कॉलेज का है. जहां तुच्छ जाति के प्रिंसिपल डॉक्टर एसएन सिन्हा ने एक दलित जूनियर डॉक्टर अलोक कुमार को थप्पड़ मारा. इसके साथ ही वह उन्हें जातिसूचक गाली भी दे रहे हैं. यह घटना उस वक्त हुई जब आलोक कुमार मोटरसाइकिल से कहीं जाने की तैयारी कर रहे थे. सीनियर डॉक्टर ने कॉलेज परिसर में के गेट पास ही अपने सुरक्षा गार्डो के साथ उन्हे रोक लिया और गाली देते हुए थप्पड़ मारना शुरू कर दिया. उसके बाद भी दलित डॉक्टर ने कोई तीखी प्रतिक्रिया नहीं की और चुपचाप जाने की कोशिश करने लगे. लेकिन जातिवादी डॉक्टर ने उसे मोटरसाइकिल से उतरने पर मजबूर कर दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here