ठाकुरों ने किया दलित परिवार की भूमि पर कब्जा

Victim family

ललितपुर। बानपुर के खिरिया छतारा गांव में सामने आया है. जहां एक दलित परिवार की जमीन पर वहां रहने वाले ठाकुरों ने बलपूर्वक अपना कब्जा जमाकर उस जमीन पर अपनी फसल भी बो ली. उस दलित परिवार को मारपीट कर गांव से निकल जाने फरमान भी जारी कर दिया. सुनने में यह कहानी फिल्मी लगती है मगर यह बुंदेलखंड के सबसे पिछड़े जिले ललितपुर के ग्रामीण क्षेत्रों की हकीकत है.

इस मामले में पीड़ित परिवार के सिमुल ने पुलिस अधीक्षक को एक शिकायत पत्र देकर अवगत कराया. उन्होंने कहा कि बहू दीपा ने रजिस्ट्री बैनामा के जरिए जमीन खरीदी थी और उसने जमीन की नियमता पूर्वक हदबंदी भी करा चुके हैं. मगर उसी गांव में रह रहे गुंडें प्रवृति के इंद्रपाल सिंह और उनके भाई राजपाल सिंह, देवेंद्र सिंह ठाकुर आदि लोगों ने मिलकर उसकी हदबंदी की बाड़-उखाड़ कर फेंक दी.

यही नहीं जब पूरा परिवार एक रिश्तेदार की शादी में गया हुआ था तब उनकी जमीन पर ठाकुरों ने कब्जा कर अपनी फसल को बो दिया. जब इस घटना का विरोध दलित परिवार ने किया तो जातिवादी गुंडों ने लाठी-डंडों से मारपीट कर दलितों को गांव से निकल जाने का फरमान जारी कर दिया.

दलित परिवार का आरोप है कि ठाकुर आपराधिक प्रवृत्ति के लोग हैं, जिनसे हमें जान का खतरा बना हुआ है. हालांकि दलित परिवार ने थाने में शिकायत की मगर उसकी वहां नहीं सुनी गई. उसके बाद दलित परिवार अपनी औरतों बच्चों को लेकर जिला मुख्यालय आया और जिलाधिकारी परिसर में अपना डेरा डाल दिया एवं अपनी जान माल की सुरक्षा की गुहार भी लगाई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here