इराक में गायब 39 भारतीयों पर सुषमा ने बोला झूठ

नई दिल्ली। इराक में गायब 39 भारतीयों के बारे में इंडिया टुडे की इंवेस्टिगेशन रिपोर्ट ने सियासी गलियारे में हलचल मचा दी है. कांग्रेस ने इस रिपोर्ट को आधार बनाकर विदेशमंत्री सुषमा स्वराज के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. कांग्रेस नेता प्रताप सिंह बाजवा ने शुक्रवार को विदेशमंत्री सुषमा स्वराज पर देश को भ्रमित करने का आरोप लगाया. बाजवा का कहना है कि पिछले तीन साल से इराक में गायब 39 भारतीय मोसुल के जेल में बंद थे और आईएसआईएस ने उस जेल को तबाह कर दिया है.

बता दें कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा था कि गायब भारतीय इराक की किसी जेल में बंद हो सकते हैं. इसके बाद इंडिया टुडे की टीम ने गायब भारतीयों की खोज में मोसुल का दौरा किया, लेकिन उनके जीवित होने के कोई संकेत नहीं मिले.

प्रताप सिंह बाजवा ने कहा कि इंडिया टुडे की इंवेस्टिगेशन ने साबित कर दिया है कि विदेशमंत्री सुषमा स्वराज झूठ बोल रही हैं. कांग्रेस नेता ने कहा कि देश के लोगों से झूठ बोलने और 39 भारतीयों के परिवार की भावनाओं से खेलने के लिए विदेशमंत्री के खिलाफ विशेषाधिकार प्रस्ताव लाने पर विचार कर रहे हैं.

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि संसद में विदेश मंत्री द्वारा दी गई जानकारी भ्रामक है. हमें चिंतित होना चाहिए कि क्या वे जीवित हैं? कहां हैं? अगर वहां जेल नहीं है, तो हमें यह देखना चाहिए कि क्या विदेश मंत्रालय ने जानकारी सत्यापित की है.

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संसद में खुद इन भारतीयों के जीवित होने का दावा किया था. रविवार को स्वराज ने कहा था कि इराक में 2014 में लापता हुए 39 भारतीय नागरिक बाडुश की एक जेल में कैद हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि इलाके में जारी संघर्ष के खत्म होने के बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट हो पाएगी. सुषमा ने लापता भारतीयों के परिजनों से मुलाकात के दौरान यह भरोसा दिलाया था कि सरकार इन सभी भारतीयों को हर हाल में वापस लाएगी.

सोमवार को विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह ने भी ‘आजतक’ से बातचीत में कहा था कि लापता 39 भारतीय नागरिक बादुश की जेलों में हो सकते हैं. उनको यह जानकारी इराक के एनएसए की ओर से मिली है. विदेश राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह हाल ही में इराक का दौरा करके लौटे थे.

सिंह ने दौरा करने के बाद खास बातचीत में कहा कि उन्हें जो जानकारी इराक में रहते हुए मिली है. उनके मुताबिक 39 भारतीय जीवित है और सभी वहां जेलों में बंद है. हालांकि इंडिया टुडे की पड़ताल में ऐसी कोई जेल नहीं मिली हैं, जहां पर ये भारतीय बंद हों. दुनिया की सबसे खतरनाक जगह मोसुल पहुंचकर इंडिया टुडे ने बादुश की जेलों को खोजा, लेकिन ऐसी कोई जेल नहीं मिलीं. खूंखार आतंकी संगठन ISIS खुद बादुश की जेलों को नष्ट कर चुका है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here