BSF के चार जवानों पर आदिवासी किशोरी से बलात्कार का आरोप

 

Demo Pic

कोरापुट। ओडिशा के कोरापुट जिले में बीएसएफ के चार जवानों पर एक नाबालिग आदिवासी लड़की के साथ बलात्कार का आरोप लगा है. हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक नाबालिग युवती के भाई ने आरोप लगाया कि मंगलवार को बीएसएफ की वर्दी पहने चार लोगों ने युवती से गैंगरेप किया. उसका कहना है कि ये जवान माओवादियों के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान में शामिल हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक पीड़िता नौवीं कक्षा की छात्रा है. वह कुंडुलिहाटा इलाक़े में अपने आधार कार्ड का पंजीकरण करा के अपने गांव मुसुलीगुड़ा लौट रही थी. बताया जा रहा है कि रिक्शे से उतरने के बाद वह पैदल जा रही थी कि तभी वर्दी पहने लोगों ने उसे रोक लिया.

पीड़िता के भाई का आरोप है कि चार बीएसएफ जवान लड़की को जंगल में ले गए और वहां उसका मुंह बंद कर उसका यौन शोषण किया. उसने यह भी बताया कि उसकी एक रिश्तेदार ने लड़की को बचाया और कोरापुट के ज़िला अस्पताल में भर्ती कराया. मामला दर्ज कर चुकी पुलिस के मुताबिक लड़की की हालत नाज़ुक है. पुलिस ने आरोपियों के फरार होने की बात भी कही है.

सत्याग्रह के मुताबिक बीएसएफ के डीआईजी जेसी नायक ने घटना में जवानों की भूमिका से इनकार किया है. नायक ने आरोपों को ख़ारिज करते हुए कहा कि बीएसएफ की कंपनी घटनास्थल से क़रीब 35 किलोमीटर दूर है और बीएसएफ इस इलाक़े में सक्रिय नहीं है. उधर, घटना सामने आने के बाद ग़ुस्साए स्थानीय लोगों ने सड़कों पर जाम लगा दिया. मामले पर राजनीति भी शुरू हो गई है. कांग्रेस विधायक कृष्ण चंद्र सागरिया के साथ पार्टी के कार्यकर्ता कोरापुट के पुलिस अधीक्षक के कार्यालय के सामने धरने पर बैठ गए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here