बिहार में टूट के कगार पर नीतीश कुमार की पार्टी!

0
115

बिहार की सियासत में एक जमाने में धुर विरोधी रहे शरद यादव और लालू यादव के रास्ते एक हो सकते हैं। नीतीश से नाराज शरद यादव ने यह कह कर कि वो अब भी महागठबंधन के साथ हैं, इसका संदेश भी दे दिया है। वहीं तीन दिवसीय बिहार दौरे में 10 अगस्त को पटना पहुंचे शरद यादव के स्वागत के लिए मौजूद राजद के नेताओं से यह भी साफ हो गया है कि शरद यादव और लालू यादव एक राह पर चलने को तैयार हैं।

नीतीश कुमार का राष्ट्रीय जनता दल से गठबंधन तोड़ देने के बाद से ही शरद यादव नाराज हैं। शरद यादव का तर्क है कि दोनों के बीच गठबंधन पूरे पांच साल के लिए हुआ था और बीच में गठबंधन तोड़ देना ठीक नहीं है। असल में जनता दल यूनाइटेड के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव का तर्क भी मजबूत है। बिहारपहुंचे शरद यादव ने कहा-

“हमने पांच साल के लिए गठबंधन किया था. जिस 11 करोड़ जनता से हमने जो करार किया था, वो ईमान का करार था. वो टूटा है, जिससे हमको तकलीफ हुई है. 70 साल के इतिहास में ऐसा कोई उदाहरण नहीं मिलता, जहां दो पार्टी या
गठबंधन जो चुनाव में आमने-सामने लड़े हों और जिनके मेनिफेस्टो अलग-अलग हों, दोनों के मेनिफस्टो मिल गए हों. यह लोकशाही में विश्वास का संकट है.”

शरद यादव अकेले नहीं हैं जो नीतीश कुमार से नाराज हैं। इस कड़ी में राज्यसभा सांसद अली अनवर का भी नाम शामिल है। अनवर भी गठबंधन टूटने के बाद से ही लगातार नीतीश कुमार के खिलाफ मुखर हैं। ऐसे में जनता दल यूनाइटेड का दो खेमों में बंटना तय माना जा रहा है। शरद यादव 10 से 12 अगस्त तक बिहार का दौरा करेंगे। 19 अगस्त को नीतीश खेमें के जनता दल की बैठक से पहले शरद यादव ने 17 अगस्त को दिल्ली में एक बैठक बुलाई है। इनदोनों बैठकों के बाद 20 अगस्त तक जनता दल यूनाइटेड के टूट की घोषणा हो सकती है।

अशोक दास

अशोक दास

बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं।गोपालगंज कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।
'दलित दस्तक' मासिक पत्रिका के संस्थापक एवं संपादक। मई 2012 से लगातार पत्रिका का प्रकाशन। जून 2017 से दलित दस्तक के वेब चैनल (www.youtube.com/c/dalitdastak) की शुरुआत।
अशोक दास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here