पटाखों की बिक्री पर लगे बैन के पीछे पनपती राजनीति

नई दिल्ली। दिल्‍ली में पटाखों की बिक्री पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा लगाए गए प्रतिबंध पर विरोध के स्‍वर भी धीरे-धीरे बुलंद हो रहे हैं. इसमे फिलहाल सबसे अहम सवाल यह उठाया जा रहा है कि कहीं यह मात्र एक राजनैतिक खेल का परिदृश्य तो नहीं. त्रिपुरा के गवर्नर तथागत रॉय का कहना है कि राष्ट्रीय राजधानी में पटाखों की बिक्री पर सुप्रीम कोर्ट के प्रतिबंध में राजनीति शामिल है.

तथागत रॉय ने याचिकाकर्ताओं और ‘पुरस्कार-वापस करने वाले लोगों को विशेष रूप से लक्षित करते हुए कहा, ‘पुरस्कार-वापसी और अन्य लोग जो इस पर याचिका दर्ज करने की कोशिश कर रहे हैं, उनकी आंखें हमेशा अल्पसंख्यक वोट बैंक की ओर ही रहती हैं. मुझे पक्‍का यकीन है कि इस मुद्दे में राजनीति हो रही है.’

रॉय ने अपने ट्वीट में पटाखों पर प्रतिबंध के बारे में कहा, ‘कभी दही हांडी, आज पटाखा, कल को हो सकता है प्रदूषण का हवाला देकर मोमबत्ती और अवार्ड वापसी गैंग हिंदुओं की चिता जलाने पर भी याचिका डाल दे!’ रॉय ने स्पष्ट किया कि उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बारे में कुछ नहीं कहा, लेकिन साथ ही कहा कि वह प्रतिबंध से नाखुश हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here