बैंकॉक मंदिर विस्फोट: एक संदिग्ध महिला गिरफ्तार

नई दिल्ली। साल 2015 में थाईलैंड के इरावन मंदिर में हुए घातक विस्फोट मामले में एक संदिग्ध महिला को गिरफ्तार किया है. स्थानीय मीडिया के मुताबिक बुधवार रात को पुलिस ने उस महिला को सुवर्णाभूमि हवाई अड्डे से गिरफ्तार किया है. ऐसा कहा जा रहा है कि गिरफ्तार की गई महिला अपना निर्दोषता को साबित करने आयी है.

दरअसल बुधवर को सुवर्णाभूमि हवाई अड्डे पर पुलिस थाईलैंड की एक संदिग्ध महिला वान्ना सुआनसन (30) का इंतजार कर रही थी. जो तुर्की से आने वाली थी. हवाई अड्डे पर महिला के पहुंचते ही उसे तुरंत गिरफ्तार कर लिया गया. तभी महिला की रिश्तेदारों ने मीडिया को बताया कि वान्ना सुआनसन अपनी निर्दोषता को सिद्ध करने के लिए थाईलैंड वापस आयी है. उसने बताया कि वह 2015 के हमले के दौरान तुर्की में ही थी.

वहीं पुलिस का कहना है कि वन्ना हमले से पहले समन्वयक के रूप में काम कर रही थी, उसने हमले में शामिल अन्य संदिग्धों को किराए पर कमरे दिए थे. जो उसके पति इमराह दावुतोग्लू के दोस्त थे. वहीं महिला के पति पर बम बनाने की सामग्री मुहैया कराने का आरोप है. यह जोड़ा अपने नवजात बेटे के साथ 17 अगस्त 2015 को हुए विस्फोट से पहले फुकेट से होते हुए तुर्की चला गया था.

यह बम एक बैक-पैक में छिपाया गया था, जिसमें विस्फोट से 20 लोगों की मौत हो गई. जिसमें 12 विदेशी भी शामिल थे. इसके साथ ही 120 से अधिक लोग उस विस्फोट के कारण घायल हो गए थे. संदिग्ध आरोपी वन्ना को गिरफ्तार करने के मामले में राष्ट्रीय पुलिस उपप्रमुख श्रीवारा रानसिब्रामनकुल ने मीडिया को बताया कि उस पर हत्या की साजिश रचने में सहयोग और बम रखने का आरोप लगा है. इसलिए उसे गुरुवार को अदालत के समक्ष पेश किया जाएगा. वहीं अधिकारी ने बताया कि इस मामले से जुड़े 14 और संदिग्ध फरार हैं और पुलिस उनकी तलाश में है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here