बलात्कारी बाबा को मिली 20 साल की सजा, सिरसा में हुई आगजनी

रोहतक। दो रेप के मामले में दोषी करार दिए गए डेरा सच्चा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को 20 साल की सजा सुना दी गई है. सीबीआई कोर्ट में जज जगदीप सिंह ने फैसला सुनाया. सुनवाई के दौरान राम रहीम कोर्ट में माफी मांग रहा था. माफी मांगते-मांगते रो रहा था. यह पहली बार हुआ जब हरियाणा के किसी जेल परिसर में अदालत लगाकर सजा सुनाई गई. सजा सुनाने के लिए रोहतक की सुनारिया जेल में दोपहर बाद 2.30 बजे विशेष कोर्ट में सुनवाई चल रही थी.

राम रहीम के वकील ने जज से समाज सेवा का हवाला देकर सजा कम करने की मांग की लेकिन जज ने इसे खारिज कर दिया. कोर्ट में सजा मिलने से पहले ही राम रहीम के समर्थको हिंसा शुरू कर दी. समर्थकों ने सिरसा में दो वाहनों में आग लगा दी. हालांकि हरियाणा और पंजाब में सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं.

सैकड़ों डेरा समर्थकों को पहले ही हिरासत में ले लिया गया है. सेना, अर्धसैनिक बल और राज्य पुलिस के जवानों तैनात किया गया है. रोहतक, सिरसा सहित कई जिलों में स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए हैं. मोबाइल इंटरनेट सेवाए ठप्प कर दी गई हैं. रोहतक को छावनी में तब्दील कर दिया गया है.

सीबीआई कोर्ट ने राम रहीम को भारतीय दंड संहिता (आइपीसी) की तीन धाराओं 376 (दुष्कर्म), 506 (डराने-धमकाने) और 509 (महिला की इज्जत से खिलवाड़) के तहत दोषी ठहराया है. वहीं, फैसले को लेकर पंजाब-हरियाणा हाई अलर्ट पर हैं. पंचकूला में हुई आगजनी से सबक लेते सरकार ने रोहतक जेल के बाहर पांच स्तरीय सुरक्षा घेरा बनाया है. पुलिस और सुरक्षा बलों को मौके पर ही तुरंत एक्शन लेने व उपद्रवियों को गोली मारने के आदेश दिए गए हैं. हेलीकॉप्टर व ड्रोन से नजर रखी जाएगी. अर्धसैनिक बलों की 23 कंपनियां तैनात की गई हैं. सेना स्टैंड बाई पर रहेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here