अमेरिकी द्वीप गुआम पर हमले की तैयारी में उत्तर कोरिया

यह ख़बर उत्तर कोरिया के सरकारी मीडिया से आई है. उत्तर कोरिया के सरकारी मीडिया ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की धमकी के कुछ ही घंटों बाद एक सैन्य बयान जारी किया है.
उत्तर कोरिया की सरकारी समाचार एजेंसी का कहना है कि गुआम पर मध्यम से लंबी दूरी के मिसाइल हमले के बारे में विचार किया जा रहा है. गुआम में अमरीकी सामरिक बमवर्षक विमानों के ठिकाने हैं. उत्तर कोरिया का यह बयान दोनों देशों के बीच ख़तरनाक तनाव को ही दर्शाता है. हाल ही में संयुक्त राष्ट्र ने उत्तर कोरिया पर और आर्थिक पाबंदी लगाई थी. दूसरी तरफ़ उत्तर कोरिया का कहना है कि यह उसकी संप्रभुता का हिंसक उल्लंघन है और इसके लिए अमरीका को क़ीमत चुकानी होगी.

बुधवार को उत्तर कोरिया की सरकारी समाचार एजेंसी केसीएनए ने कहा कि गुआम पर हमले की तैयारी का मुआयना किया गया है. केसीएनए ने कहा कि गुआम के चारों तरफ़ हमले की तैयारी है. इसमें उत्तर कोरिया में ही बनी मिसाइल ह्वॉसोंग-12 का इस्तेमाल किया जा सकता है. उत्तर कोरिया की तरफ़ से मंगलवार को जारी सैन्य बयान में इस बात का ज़िक्र किया गया था. उत्तर कोरिया का यब बयान उस ख़बर के बाद आई है कि अमरीकी सेना ने गुआम में सैन्य अभ्यास किया है. उत्तर कोरिया के इस आक्रामक बयान से स्थिति और बिगड़ गई है.उत्तर कोरिया ने पांच बार परमाणु बम का परीक्षण किया है. इसके साथ ही जुलाई में इंटरनेशनल बैलिस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) का भी परीक्षण किया था. दावा है कि उसकी मिसाइल की क्षमता अमरीका तक को निशाने पर लेने की है.
मंगलवार को अमेरिकी मीडिया में यह रिपोर्ट छपी थी कि उत्तर कोरिया ने परमाणु हथियारों को हासिल कर लिया है और उसकी मिसाइलों में भी परमाणु हथियारों से लैस होने की क्षमता है.

वॉशिंगटन पोस्ट में एक रिपोर्ट छपी है कि उत्तर कोरिया उम्मीद से ज़्यादा तेजी से अमेरिका को निशाने पर लेने वाली परमाणु हथियारों से लैस मिसाइलों को विकसित कर रहा है. जापानी सरकार ने भी एक श्वेतपत्र जारी किया है जिसमें बताया गया है कि उसके पास संभवतः परमाणु हथियार हैं.
राष्ट्रपति ट्रंप ने उत्तर कोरिया को धमकी देते हुए कहा था कि वह अमेरिका को चेताना बंद करे नहीं तो उसे ऐसे हमले का सामना करना पड़ेगा जिसे दुनिया ने कभी नहीं देखा होगा.
हालांकि अमेरिकी सीनेटर जॉन मैकेन ने ट्रंप की चेतावनी पर संदेह जताया है. उन्होंने कहा कि वो इस मामले में आश्वस्त नहीं हैं कि ट्रंप ऐसा करने के लिए तैयार हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here