बौद्ध नगरी भी है मथुरा, जानिए मथुरा में बौद्ध धम्म का इतिहास

0
787
मथुरा संग्रहालय में बुद्ध की प्रतिमा – फोटो- दलित दस्तक

माना जाता है कि किसी शहर का इतिहास जानना हो तो वहां के संग्रहालय को घूम आइए. अगर उस शहर ने ईमानदारी से अपना इतिहास संजोया होगा तो वह वहां के संग्रहालय में जरूर मौजूद होगा. मथुरा के डैंम्पियर नगर में मौजूद राजकीय संग्रहालय बिल्कुल वैसा ही है. यह संग्रहालय विश्व भर में कृष्ण के जन्मस्थान के रूप में मशहूर मथुरा का एक और इतिहास भी बताता है. यह दूसरा इतिहास आपको बुद्ध और बौद्ध धर्म के करीब ले जाता है.

मथुरा संग्रहालय में बुद्ध की प्रतिमा – फोटो- दलित दस्तक

राजकीय संग्रहालय में बुद्ध ही बुद्ध

मथुरा के इस संग्रहालय में आपको तथागत बुद्ध की तमाम मूर्तियां मिल जाएंगी. कह सकते हैं कि सैकड़ों की संख्या में मौजूद प्रतिमाओं में सबसे ज्यादा बौद्ध प्रतिमाएं हैं. संग्रहालय में मौजूद तमाम बौद्ध प्रतिमाओं की बात करें तो पांचवी शती की आदमकद बौद्ध प्रतिमा, कुषाण काल में सिंहासन आरुढ बैठे बुद्ध का अधोभाग और इसी काल में मिला बुद्ध का विशाल मस्तक आपका ध्यान खिंचती है. यहां बुद्ध की मूर्तियां तमाम मुद्राओं में मौजूद है.

मथुरा संग्रहालय में बुद्ध की प्रतिमा – फोटो- दलित दस्तक

तथागत बुद्ध का मथुरा भ्रमण

असल में बौद्ध धर्म को मानने वालों के लिए मथुरा कितना महत्वपूर्ण है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि भगवान बुद्ध दो बार मथुरा आए थे. इसी तरह एक वक्त में मथुरा में 16 विहार हुआ करते थे. इस वजह से मथुरा बौद्ध धर्मावलंबियों के लिए काफी महत्वपूर्ण केंद्र था. मथुरा के स्थानीय लोगों को बुद्ध के इतिहास के बारे में भले ही पता न हो, मथुरा पहुंचने वाले तमाम विदेशी सैलानी यहां बुद्ध को ढूंढ़ते हुए जरूर आते हैं. सन् 1860 में मथुरा में ही जमालपुर टीले से बुद्ध की दो आदमकद प्रतिमा मिली है, उसमें से एक संग्रहालय में है, जबकि दूसरा राष्ट्रपति भवन में.

मथुरा संग्रहालय में बुद्ध के बारे में लिखा विवरण – फोटो- दलित दस्तक

मथुरा का बौद्ध इतिहास

कृष्ण और राधा के आभामंडल से निकलकर अगर मथुरा के इतिहास की बात करें तो यहां नन्द, मौर्य, शुंग, क्षत्रप और कुषाण वंशों का शासन रहा. इस दौरान विभिन्न धर्मों से संबंधित सैकड़ों मूर्तियां यहां बनीं. बाद के दिनों में ये उपासना स्थल टीलों में परिवर्तित हो गए. आज मथुरा इन्हीं टीलों पर बसा है. 1874 में तत्कालीन कलेक्टर एफ. एस. ग्राउज ने इन्हीं मूर्तियों को सहेजने के लिए संग्रहालय की नींव रखी थी.

अशोक दास

अशोक दास

बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं।गोपालगंज कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।
'दलित दस्तक' मासिक पत्रिका के संस्थापक एवं संपादक। मई 2012 से लगातार पत्रिका का प्रकाशन। जून 2017 से दलित दस्तक के वेब चैनल (www.youtube.com/c/dalitdastak) की शुरुआत।
अशोक दास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.