पेरियार से प्रभावित थे करुणानिधि, झेलना पड़ा था जातिवाद

1
604

द्रविड़ मुनेत्र कड़गम यानी DMK प्रमुख एम करुणानिधि नहीं रहें. 94 साल की उम्र में 7 अगस्त को उनका निधन हो गया. द्रविड़ आंदोलन से जुड़े होने के कारण उन्हें दफनाया जाएगा. मद्रास हाईकोर्ट की अनुमति के बाद उन्हें चेन्नई के मरीन बिच पर दफनाया जाएगा. करुणानिधि राजनीति के वो दिग्गज थे, जिनके सामने से भारतीय राजनीति के लगभग सारे मुकाम गुज़रे थे. इस उम्र में भी करुणानिधि ही DMK के कर्ताधर्ता थे.

करुणानिधि के जीवन की तमाम बातें लोगों को पता है. मसलन, उन्होंने तीन शादियां की थी. सक्रिय राजनीति में आने से पहले वो तमिल फिल्मों में स्क्रिप्ट राइटर थे. फिल्मों से राजनीति में आने का उनका किस्सा भी किसी फिल्म की कहानी सरीखा ही है. राजनीति के इस नायक को कोई टक्कर दे सका तो वे तमिल फिल्मों के असली महानायक एमजीआर और उनकी शिष्या जयललिता ही थे. बावजूद इसके 1969 से लेकर 1977 का दशक ऐसा था जब करुणानिधि और तमिलनाडु की राजनीति एक-दूसरे के पर्याय थे और उन्हें टक्कर देने वाला कोई नहीं था. करुणानिधि पिछले 62 सालों में एक भी चुनाव नहीं हारे थे. फिलहाल वे थिरुवारुर सीट से MLA थे.

लेकिन जो बातें लोगों को नहीं पता है, उसका जिक्र करना भी जरूरी है. मसलन, खासकर उत्तर भारत के लोगों को यह बात कम पता है कि करुणानिधि को जातिवाद का सामना करना पड़ा था. उन्हें बचपन में ही संगीत सीखने के दौरान छूआछूत का शिकार होना पड़ा था. करुणानिधि का परिवार एक खास वाद्यंत्र बजाता था. बालक करुणानिधि के लिए भी यह सीखना जरूरी था, लेकिन उन्हें उनकी जाति के चलते कम वाद्ययंत्र सिखाये जाते थे. यह बात उन्हें बुरी लगती थी. इस कारण करुणानिधि का मन संगीत में नहीं लगा.

उनके मन पर इस घटना का गहरा प्रभाव पड़ा, जिसके बाद वह जातिवाद और भेदभाव के खिलाफ दक्षिण में बिगुल फूंकने वाले ‘पेरियार’ के ‘आत्मसम्मान आंदोलन’ से जुड़ गए. इस तरह करुणानिधि काफी कम उम्र में ही द्रविड़ लोगों के ‘आर्यन ब्राह्मणवाद’ के खिलाफ आंदोलन में शामिल हो गये.

जब सन् 1937 में तमिलनाडु में हिन्दी अनिवार्य भाषा के तौर पर लाया जा रहा था. करुणानिधि इस कदम के विरोध में उठ खड़े हुये. तब उनकी उम्र मात्र 14साल की थी. इस उम्र में ही वो इसके खिलाफ नारे लिखने लगे थे. इसी दौरान उनकी धारदार शैली पर ‘पेरियार’ और ‘अन्नादुराई’ की नजर गई. ये दोनों उस दौर में तमिल राजनीति के महारथी हुआ करते थे.

करुणानिधि के लेखन और बात रखने की असाधारण क्षमता से प्रभावित होकर इन्होंने करुणानिधि को अपनी पार्टी की पत्रिका ‘कुदियारासु’ का संपादक बना दिया. लेकिन देश की आजादी के साथ ही पेरियार और अन्नादुराई के रास्ते अलग हो गए और करुणानिधि अन्नादुराई के साथ उनके रास्ते पर चले आये. लेकिन अलग होने के बावजूद उनके पूरे जीवन पर पेरियार के विचारों का प्रभाव बना रहा. इसी प्रभाव की वजह से ईश्वर के अस्तित्व से करुणानिधि ने सीधा इंकार कर दिया था.

सितंबर, 2007 में दिया उनके भाषण का यह वाक्य उनकी शैली और विचारों की एक नज़ीर पेश करता है, जिसमें पेरियार से प्रभावित इस दिग्गज नेता ने कहा था-
“लोग कहते हैं कि सत्रह लाख साल पहले एक आदमी हुआ था. उसका नाम राम था. उसके बनाए पुल रामसेतु को हाथ ना लगायें. कौन था ये राम? किस इंजीनियरिंग कॉलेज से ग्रेजुएट हुआ था? कहां है इसका सबूत?”

तमिलनाडु में पेरियार द्वारा लगाई गई और अन्नादुराई और करुणानिधि की संभाली गई गैर ब्राह्मणवादी, हिन्दी विरोधी राजनीति का बोलबाला आज तक है, क्योंकि उसे करुणानिधि जैसे बड़े नेता द्वारा मजबूत आधार मिला. करुणानिधि को दलित दस्तक की श्रद्धांजलि.

बसपा प्रमुख ने करुणानिधि को यूं दी श्रद्धांजली

  • दलित-बहुजन मीडिया को मजबूत करने के लिए और हमें आर्थिक सहयोग करने के लिये दिए गए लिंक पर क्लिक करेंhttps://yt.orcsnet.com/#dalit-dast
अशोक दास

अशोक दास

बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं।गोपालगंज कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।
'दलित दस्तक' मासिक पत्रिका के संस्थापक एवं संपादक। मई 2012 से लगातार पत्रिका का प्रकाशन। जून 2017 से दलित दस्तक के वेब चैनल (www.youtube.com/c/dalitdastak) की शुरुआत।
अशोक दास

1 COMMENT

Leave a Reply to Rahul Bouddh Cancel reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.