पिता राजीव गांधी को कितना याद करते होंगे राहुल

0
577

राहुल गांधी आज औपचारिक तौर पर कांग्रेस अध्यक्ष का पद संभाल लेंगे. राहुल गांधी को कांग्रेस की कमान ऐसे वक्त में मिल रही हैं, जब पार्टी अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रही है. लोकसभा चुनाव में 50 सीटों के नीचे तो कांग्रेस 2014 में ही आ गई थी लेकिन उसके बाद एक-एक कर राज्यों से उसकी सत्ता भी चली गई जिससे पार्टी औऱ कमजोर हो गई है. आज जब राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद की कमान संभाल ली है, जाहिर सी बात है कि उनको पिता राजीव गांधी याद आते होंगे.

 दोनों की जिंदगी में काफी समानताएं हैं. राजीव गांधी राजनीति में नहीं आना चाहते थे. अगर असमय संजय गांधी की मौत न हुई होती तो राजीव शायद एक फैमिली मैन बनकर एयर इंडिया के पायलट ही बने रहते इसी तरह राहुल गांधी भी काफी ऊहापोह के बाद राजनीति में आएं. राजीव गांधी ने अपनी मां इंदिरा को असमय खो दिया और जब राजीव गांधी की मौत हुई तो राहुल बच्चा कहे जाने की उम्र से थोड़े ही बड़े थे. राजीव गांधी को पिता का प्यार नहीं मिला. ऐसे ही राहुल गांधी को भी पिता राजीव का प्यार नहीं मिल पाया. परिवार में उनके साथ सिर्फ मां सोनिया और बहन प्रियंका ही थे. इन दोनों के अलावा राहुल गांधी के सामने हथियारबंद सुरक्षाकर्मी और अनजाने चेहरों वाले नेताओं की फौज थी.

राजीव गांधी ने राजनीति अपनी मां से सीखी, उसी तरह जब राहुल गांधी राजनीति में उतरें तब उनकी भी गुरू के रूप में मां सोनिया ही मौजूद थीं. राहुल गांधी जब राजनीति में आएं तो भले ही विपक्ष वाले उनपर हंसते हों, उन्हें कमतर दिखाने के लिए उन्हें विभिन्न नामों से संबोधित करते हों, लेकिन 2004 में राजनीति में आने के बाद बीते 13 सालों में उन्होंने खुद को साबित किया है, इसमें कोई शक नहीं है. राहुल चाहते तो कब का देश का प्रधानमंत्री बन गए होते लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया आप खुद से पूछिए, भारत में कितने ऐसे राजनेता हैं जो यह मौका गंवाने को तैयार होंगे.

आज जब राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष बन गए हैं तो जाहिर है कि उनके सामने ढेर सारी चुनौतियां हैं. लेकिन अध्यक्ष पद पर ताजपोशी की प्रक्रिया में सामने आए गुजरात के चुनाव में राहुल गांधी ने भाजपा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जिस तरह घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया है, उससे यह साफ है कि राहुल को हल्के में नहीं लिया जा सकता. जाहिर है 2019 में केंद्र की सत्ता के लिए होने वाला संघर्ष शानदार होगा. जब राहुल पहली बार लोगों के बीच आए थे तो अखबारों में एक हेडलाइन समान थी, “यह तो बिल्कुल अपने पापा की तरह दिखता है”. कांग्रेसी चाहेंगे कि राहुल अपने पिता की तरह ही पार्टी के अध्यक्ष और फिर देश के प्रधानमंत्री बनें.

 

अशोक दास

अशोक दास

बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं।गोपालगंज कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।
'दलित दस्तक' मासिक पत्रिका के संस्थापक एवं संपादक। मई 2012 से लगातार पत्रिका का प्रकाशन। जून 2017 से दलित दस्तक के वेब चैनल (www.youtube.com/c/dalitdastak) की शुरुआत।
अशोक दास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.