मशहूर शायर फैज अहमद फैज की लवस्टोरी

साल 1941 में फ़ैज़ ने एक अंग्रेज़ महिला एलिस से श्रीनगर में विवाह किया था और उनका निकाह पढ़वाया था उस समय कश्मीर के सबसे बड़े नेता शेख़ अब्दुल्ला ने. फ़ैज़ के नवासे अली मदीह हाशमी उस घटना के बारे में बताते हैं, ”1941 में श्रीनगर में उनका निकाह हुआ था. मेरी नानी ने मुझे बताया कि फ़ैज़ उनके लिए एक अंगूठी लेकर आए थे. एलिस ने पूछा कि पैसे कहां से आए अंगूठी ख़रीदने के, तो उन्होंने कहा कि मियां इफ़्तखारुद्दीन से उधार लिए हैं लेकिन हम उनको वापस नहीं करेंगे.”

पत्नी एलिस के साथ मशहूर शायर फैज अहमद फैज

हाशमी ने बताया, ”एलिस ने अंगूठी पहनी. वो उन्हें बिल्कुल फ़िट आई. उन्होंने फ़ैज़ से पूछा- नाप कहां से मिला? फ़ैज़ ने कहा मैंने अपनी उंगली का नाप दिया. इसे कहते हैं परफ़ैक्ट फ़िट. हमारी उंगलियां भी बराबर हैं. उस शादी में उनकी तरफ़ से तीन बाराती गए थे और शाम को हुए दावते-वलीमा में जोश मलीहाबादी और मजाज़ भी शामिल हुए थे.”
1962 में फ़ैज़ को सोवियत संघ ने लेनिन शांति पुरस्कार से नवाज़ा था. चूंकि फ़ैज़ को दिल का दौरा पड़ चुका था इसलिए उन्हें हवाई जहाज़ से सफ़र करने की मनाही थी. वो कराची से नेपल्स पानी के जहाज़ से गए थे और फिर वहां से तीन दिनों का ट्रेन का सफ़र करते हुए मॉस्को पहुंचे थे.

  • साभार- बीबीसी में रेहान फजल के लिखे आलेख से

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here