कोरेगांव को लेकर अब पूरा हुआ डॉ अम्बेडकर का सपना

0
2258

भीमा-कोरेगांव आज ऐसा नाम है, जिसे हर कोई जान गया है. देश में आज हर कोई यह जान गया है कि भीमा-कोरेगांव की लड़ाई क्या थी, और इसमें क्या हुआ था. खासकर दलित-बहुजन तबका जो आज तक अपने इस इतिहास से अंजान था, आज इस पर फख्र कर रहा है. वह अब इस बात को जान गया है कि जिस मूलनिवासी तबके को भारत में लगातार दबाने की कोशिश की गई थी, उसी के 500 पुरखों ने 28 हजार अत्याचारियों को रौंद डाला था. 1 जनवरी 2018 को भीमा-कोरेगांव की 200वीं बरसी पर जो भी हुआ, इस घटना के बाद बाबासाहेब डॉ. अम्बेडकर का वह सपना पूरा हो गया, जो उन्होंने 1927 में इस जगह को देखने के बाद देखा था.

असल में बाबासाहेब इस स्तंभ को दलितों के स्वाभिमान के रूप में स्थापित करना चाहते थे. महारों ने पेशवाओं के ख़िलाफ़ लड़ाई 1818 में की थी. महार रेजीमेंट ने इस लड़ाई में जमकर बहादुरी दिखाई थी. भीमा-कोरेगांव में जो विजय स्तंभ है उस पर इस रेजीमेंट के लोगों के नाम हैं. बाबा साहेब अम्बेडकर जब 1927 में भीमा-कोरेगांव गए तो उन्होंने ये सारी चीज़ें वहां देखीं. उन्होंने देखा कि 1818 के बाद का जो इतिहास है उसमें दलितों के लिए भीमा-कोरेगांव एक प्रतीक बन सकता है. यही वजह रही कि उन्होंने इस लड़ाई को प्रतीक बनाने के लिए प्रयास शुरू किया.

बाबासाहेब देश के वंचित तबके के मन में स्वाभिमान और अस्मिता की भावना पैदा करना चाहते थे. बाबासाहेब जानते थे कि देश के दलितों के लिए इस लड़ाई का महत्व क्या है. वो यह जानते थे कि अगर इस लड़ाई के इतिहास के बारे में दलित समाज को पता चल जाए तो फिर उनमें आत्मविश्वास आ जाएगा. इस इतिहास के बूते वो आगे की लड़ाई लड़ने के लिए खुद को तैयार कर पाएंगे.

डॉ. अम्बेडकर की मेहनत का नजीता यह हुआ कि पूरे महाराष्ट्र के लोगों को इस युद्ध के इतिहास की जानकारी हो गई. लेकिन चूंकि प्रचार के माध्यम सवर्णों के हाथ में थे औऱ इतिहास के लेखक भी सवर्ण थे, इसलिए यह इतिहास देश भर में नहीं पहुंच सका. देश के मूलनिवासियों के इस इतिहास की लगातार अनदेखी हुई. हालांकि आखिरकार स्थिति ऐसी बन गई कि उसी प्रचार तंत्र को पूरे देश में इस इतिहास का प्रचार करना पड़ा. हालांकि उन्होंने महारों को अंग्रेजों के पाले में खड़ा कर इस युद्ध के महत्व को कम करने की कोशिश की, लेकिन वह सफल नहीं हो सके.

1 जनवरी 2018 को भीमा-कोरेगांव के 200 साल पूरा होने पर वहां मौजूद देश के बहुजनों पर पत्थरबाजी की जो घटना हुई, वह अचानक नहीं थी. वह एक सुनियोजित चाल थी. हालांकि इस घटना से उतना नुकसान नहीं हुआ, जितना इस घटना के साजिशकर्ताओं ने सोचा होगा. हां, इससे एक फायदा यह जरूर हुआ कि इसकी आग इतनी भड़की कि देश भर की मीडिया को इसका संज्ञान लेना पड़ा. और बाबासाहेब डॉ. अम्बेडकर जिस भीमा-कोरेगांव के विजय स्तंभ को देश के मूलनिवासियों के स्वाभिमान के रूप में स्थापित करना चाहते थे, वह हो चुका है.

 

अशोक दास

अशोक दास

बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं।गोपालगंज कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।
'दलित दस्तक' मासिक पत्रिका के संस्थापक एवं संपादक। मई 2012 से लगातार पत्रिका का प्रकाशन। जून 2017 से दलित दस्तक के वेब चैनल (www.youtube.com/c/dalitdastak) की शुरुआत।
अशोक दास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.