कांशीराम जी की कलम याद है

0
1844

Kanshiram

अपने कैडर में मान्यवर कांशीराम एक बहुत दिलचस्प किस्सा बताते थे. और इस किस्से के जरिए तमाम लोग मान्यवर की बात को समझ जाया करते थे. असल में मान्यवर कांशीराम जिन लोगों के बीच काम कर रहे थे, जिन्हें जगा रहे थे उसका बहुसंख्यक हिस्सा गरीब और कम पढ़ा-लिखा था. उन्हें उनकी ही भाषा में समझाना जरूरी था, तभी वो कांशीराम जी की बात समझ पाते.

इस लिहाज से कांशीराम जी ऐसे-ऐसे किस्से ढूंढ़ लाते, जिससे बहुजन समाज के लोग उनकी बात आसानी से समझ जाते. जैसे बाबासाहेब को वह टाई वाले बाबा कहते थे तो ऐसे ही ज्योतिबा फुले को पगड़ी वाले बाबा कह कर संबोधित किया करते थे. जब वो बहुजन समाज को इनके बारे में बताते तो ऐसे संबोधन सुनकर सभी लोग तुरंत समझ जाते कि आखिर मान्यवर किसके बारे में बात कर रहे हैं.

इसी तरह से कांशीराम जी एक कलम के जरिए भी अपनी बात बताते थे. हाथ में कलम लिए उनकी वह फोटो काफी चर्चित है. कांशीराम जी यह पूछते कि कलम चलती कैसे है, लोग बताते कि स्याही या फिर लीड से कलम चलती है. फिर कांशीराम जी उनसे यह पूछते थे कि दिखता क्या है, जाहिर सी बात है मौजूद लोग पेन के कवर को बताते थे. मान्यवर लोगों को यह समझाते थे कि पेन का काम लिखना होता है और लिखने का काम पेन की लीड करती है. यानि कि अगर पेन का कवर न हो तो भी पेन लिखता रहेगा. वह समझाते कि असली ताकत दिखने वाले कवर में नहीं बल्कि लिखने वाली स्याही में है.

मान्यवर कांशी राम साहब ने कलम दर्शन समझाते हुए कहा था की कलम का बड़ा हिस्सा यानी पचासी परसेंट काम करता है. असली ताकत उसके पास है, ऊपर का 15 परसेंट सिर्फ दिखावे के लिए है. जब पचासी पर्सेंट काम करता है तो 15 परसेंट हिस्सा उसके सिर पर सवार हो जाता है और अपनी हुकूमत का एहसास कराता है.

इसे वह बहुजन समाज से जोड़ते हुए कहते थे कि देश के 85 फीसदी मेहनतकश लोग ही देश की असली ताकत हैं. ताकत होते हुए भी वह लाचार हैं, जबकि 15 फीसदी लोगों के पास सारी ताकत है और उनका सत्ता पर कब्जा है. मान्यवर की ऐसी ही परिभाषाओं ने बहुजन समाज को उसकी ताकत का अहसास कराया, जिसके बूते बहुजन समाज सत्ता के शिखर तक पहुंच सकी.

वर्तमान समय में बहुजन समाज अपनी उस ताकत को भूलता दिख रहा है. आखिर आज किस-किस को मान्यवर की “कलम” (Pen) वाली परिभाषा याद है? इसके जरिए मान्यवर समझाना चाहते थे कि लिखता कौन है (स्याही) यानि की असली ताकत किसके हाथ में है, और दिखता कौन है (कवर) यानि बिना मेहनत किए कौन राजा बना बैठा है. बहुजन समाज के हर व्यक्ति को मान्यवर द्वारा दी गई इस परिभाषा से सीख लेते हुए अपनी ताकत को पहचानना होगा. यही उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी. बहुजन महानायक को नमन.

अशोक दास

अशोक दास

बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं।गोपालगंज कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।
'दलित दस्तक' मासिक पत्रिका के संस्थापक एवं संपादक। मई 2012 से लगातार पत्रिका का प्रकाशन। जून 2017 से दलित दस्तक के वेब चैनल (www.youtube.com/c/dalitdastak) की शुरुआत।
अशोक दास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.