जाति को नकारते हुए दलित युवक और ब्राह्मण युवती ने रचाई शादी

बरेली। दो अलग-अलग जातियों का विवाह होने की वजह से प्रेमी-प्रेमिका को कई मर्तबा परेशानियों का सामना करना पड़ता है. उत्तर प्रदेश के बरेली में ऐसा वाक्या सामने आया है जो देश मे कम देखने या सुनने को मिलता है. दरअसल बरेली के एक दलित युवक का रिश्ता ब्राह्मण समाज की एक युवती से हुआ. दोनों परिवार ने खुशियों के साथ समाज के सामने रिश्ते की रस्में निभाई और एक दूसरे परिवारों के सदस्यों को गले लगाकर एक दूसरे को रिश्ते की मुबारकबाद दी. ये वाक्या जातिवाद की दीवार खड़े कर रहे उन लोगों के लिए सबक है.

दरअसल यूपी के बरेली के बिहारीपुर के रहने वाले मोहित दलित समाज से है जबकि उनकी मंगेतर रितिका ब्राह्मण समाज से है. दोनों की मुलाकात करीब 8 साल पहले एक शादी समारोह की दौरान हुई थी. तबसे वह एक दूसरे को पसंद करने लगे थे लेकिन समाज की तमाम बंदिशों के कारण दोनों के रिश्ते में तमाम दिक्कतें आ रही थी. दोनों के रिश्तों की सबसे बड़ी बाधा थी एक का दलित होना और एक सामान्य जाति का होना. रितिका और मोहित ने हिम्मत नहीं हारी पहले तो दोनों परिवारों ने समाज का वास्ता देकर रिश्ते से इंकार किया बाद में बच्चों की खुशी के लिए स्वीकार कर लिया.

मोहित ने बताया कि वह अपनी मंगेतर से बहुत प्यार करता है. यही वजह रही दोनों एक दूसरे के लिए कई साल इंतजार किया. आज उनकी शादी हुई है. उन्हें खुशी है उनका पूरा सुसराल पक्ष और परिवार ने हम दोनों के साथ हमारी खुशियों में शरीक हैं. वहीं रितिका के एक नजदीकी ने कहा कि दोनों परिवार मोहित और रितिका के रिश्ते से बेहद खुश हैं. उनका आशीर्वाद दोनों बच्चों के साथ है. मोहित और रितिका की खबर उन बाप के लिए खास है जो अपनी झूठी शान और शौकत के लिए अपनी बच्चों की जान के दुश्मन बन जाते हैं.

Read it also-बहुजनों को गुलामी से बचाने का एक ही रास्ता है डाइवर्सिटी:एच.एल.दुसाध

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.