‘ओखी’ की चपेट में दक्षिण भारत, आठ की मौत और सैंकड़ों लापता

cyclone-ockhi

कोच्चि। दक्षिण भारत में एक बार फिर से चक्रवाती तूफान ने दस्तक दे दी है. चक्रवात ‘ओखी’ के कारण तमिलनाडु और केरल के दक्षिणी जिलों में मूसलाधार बारिश हो रही है. जिससे आम जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ और आठ लोगों की मौत हो गई. वहीं, तमिलनाडु के 4 नाविक और केरल की 13 बोट गायब हैं. बताया जा रहा है कि इन 13 बोट पर 38 लोग सवार थे.

चक्रवात के मद्देनजर सर्च ऑपरेशन के लिए इंडियन नेवी के 5 शि‍प कोच्चि से चले हैं. वहीं लक्षद्वीप में 2 शि‍प को स्टैंडबाय पर रखा गया है. इसके अलावा P8I एयरक्राफ्ट और कोस्ट गार्ड भी रेस्क्यू और सर्च ऑपरेशन में लगे हैं. इस चक्रवात के कन्याकुमारी से 60 किलोमीटर दक्षिण में रहने के समय अगले 24 घंटे में भारी बारिश का अंदेशा जताया गया था. यह चक्रवाती तूफान लक्षद्वीप की ओर बढ़ रहा है और यह दो दिसंबर तक यहां पहुंच जाएगा.

भारतीय मौसम विज्ञान की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार 65-75 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से हवा चल रही है और दक्षिणी केरल में अगले 48 घंटों और दक्षिणी तमिलनाडु में 24 घंटों के भीतर इसके 85 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंचने की संभावना है.

दक्षिणी तमिलनाडु के कन्याकुमारी, तूतीकोरिन और रामनतपुरम जिलों सहित तटीय क्षेत्रों में मछुआरों को अगले 24 घंटों तक समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई. इस तूफान को ओखी नाम बांग्लादेश ने दिया है. वहीं पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ओखी तेज बारिश और हवाओं के साथ लक्षद्वीप की ओर भी बढ़ रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here