यूपी में बसपा की राह चली कांग्रेस

0
1476

उत्तर प्रदेश के 2017 के विधानसभा चुनावों में बहुजन समाज पार्टी भले ही सत्ता में न आ पाई हो, बसपा प्रमुख मायावती द्वारा दलित-मुस्लिम गठबंधन की कोशिश ने सबके होश उड़ा दिए थे. विपक्षी भी मायावती के इस राजनीतिक पैतरे से परेशान थे. माना जा रहा था कि बसपा बहुमत से सरकार बनाने की होड़ में है. हालांकि बसपा के समर्थन में दलित समाज के लोग तो आए लेकिन मुस्लिम समाज ने बसपा से परहेज किया, नतीजा 22 प्रतिशत वोट हासिल करने के बावजूद बसपा सीटों के नंबर नहीं बढ़ा सकी.

कांग्रेस पार्टी भी अब यूपी में बहुजन समाज पार्टी के उसी फार्मूले पर चलने को तैयार है. और कांग्रेस की ओर से इस फार्मूले के मुस्लिम चेहरे नसीमुद्दीन सिद्दीकी बनेंगे. पूर्व बीएसपी नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी को शामिल करने के पीछे कांग्रेस की मंशा यही है.

असल में कांग्रेस की नजर एक बार फिर से तीन दशक पुराने दलित-मुस्लिम जातीय गठजोड़ पर है. कांग्रेस जिग्नेश मेवाणी के बहाने जहां दलितों का साथ हासिल करने में जुटी है वहीं नसीमुद्दीन के बहाने सूबे में मुस्लिमों को जोड़ने का प्लान है.

तीन दशक पहले तक कांग्रेस दलित, मुस्लिम और ब्राह्मण समाज के बल पर सत्ता हासिल करती रही. सन् 1984 में बसपा के उदय के बाद कांग्रेस का यह गठबंधन धाराशायी हो गया. तब से कांग्रेस संभल नहीं पाई, वह यूपी से लेकर देश की सत्ता तक में बाहर हो गई. अब कांग्रेस जान गई है कि अगर उसे सत्ता में आना है तो दलित और मुस्लिम मतदाताओं को अपनी ओर लेकर आना होगा. इसी के लिए कांग्रेस जहां जिग्नेश मेवाणी को दलित चेहरे के तौर पर देश भर में पेश कर रही है तो मुस्लिम चेहरे के रूप में बसपा के ही पूर्व नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी कांग्रेस के इशारे पर काम करेंगे. इन दोनों नेताओं के जरिए कांग्रेस उत्तर प्रदेश में एक बार फिर से दलित-मुस्लिम गठबंधन बनाने को बेताब है.

अशोक दास

अशोक दास

बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं।गोपालगंज कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।
'दलित दस्तक' मासिक पत्रिका के संस्थापक एवं संपादक। मई 2012 से लगातार पत्रिका का प्रकाशन। जून 2017 से दलित दस्तक के वेब चैनल (www.youtube.com/c/dalitdastak) की शुरुआत।
अशोक दास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.