मायावती से डरे मोदी, सीबीआई ने खोली चीनी मिल बिक्री की फाइल

1
4098

नई दिल्ली। सीबीआई पर लगातार सत्ता का हथियार बनने का आरोप लगता रहा है. एक बार फिर से केंद्र की भाजपा सरकार पर सीबीआई को हथियार बनाकर राजनीतिक हित साधने का आरोप लगने लगा है. इस बार निशाने पर उत्तर प्रदेश में भाजपा के लिए सबसे बड़ी चुनौती बनीं बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती हैं.

बसपा सुप्रीमो मायावती फिर से सीबीआई जांच के घेरे में आ गई हैं. सीबीआई ने 21 चीनी मिलों की बिक्री की जांच शुरू कर दी है. ऐसे में चुनाव से ठीक पहले हो रही इस कार्रवाई को राजनीति से जोर कर देखा जा रहा है. पिछले कुछ दिनों में मायावती भाजपा को लेकर ज्यादा हमलावर हुई हैं. फूलपुर और गोरखपुर उपचुनाव में अप्रत्याशित रूप से सपा से गठबंधन कर उन्होंने भाजपा के लिए बड़ी चुनौती खड़ी कर दी है. क्योंकि यूपी जीते बिना किसी भी पार्टी का सरकार बनाना संभव नहीं है और सपा और बसपा गठबंधन के रहते दूसरी किसी भी पार्टी का यूपी में बेहतर प्रदर्शन संभव नहीं है.

जहां तक चीनी मिलों की बिक्री का मामला है तो सीबीआई ने पूरे मामले को टेकओवर कर जांच शुरू कर दी है. सीबीआई ने बिक्री के दस्तावेजों की समीक्षा करनी शुरू कर दी है. माना जा रहा है कि इस मामले में मायावती पर जल्द ही एफआईआर भी दर्ज हो सकती है. इस मामले में कई आईएएस अफसर और नेता भी जांच के घेरे में हैं. गौरतलब है इस मामले में नसीमुद्दीन ने मायावती और सतीश चंद्र मिश्रा का नाम लिया था. गौरतलब है कि बसपा के शासनकाल में देवरिया, बरेली, लक्ष्मीगंज, हरदोई, रामकोला, चित्तौनी और बाराबंकी की चीनी मिलों को बेच दिया गया था.

एनडीटीवी से मायावती ने बताया, कब करेंगी अखिलेश से गठबंधन की घोषणा

  • दलित-बहुजन मीडिया को मजबूत करने के लिए और हमें आर्थिक सहयोग करने के लिये दिए गए लिंक पर क्लिक करें https://yt.orcsnet.com/#dalit-dastak
अशोक दास

अशोक दास

बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं।गोपालगंज कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।
'दलित दस्तक' मासिक पत्रिका के संस्थापक एवं संपादक। मई 2012 से लगातार पत्रिका का प्रकाशन। जून 2017 से दलित दस्तक के वेब चैनल (www.youtube.com/c/dalitdastak) की शुरुआत।
अशोक दास

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.