विपक्ष की मुंहजुबानी, बीजेपी हार की कहानी

1
339
PC-catchnews

नई दिल्ली। कर्नाटक में शिकस्त के बाद बीजेपी के दिन अच्छे नहीं जा रहे हैं. कर्नाटक में ज्यादा सीट लाकर भी कांग्रेस व जेडीएस ने सत्ता छिन ली तो वहीं 11 विधान सभा व 04 लोकसभा सीट पर हुए उप चुनाव में भाजपा को केवल दो सीट ही हाथ लगे. तो वहीं योगी की दिन-रात मेहनत के बाद भी उत्तर प्रदेश में एक सीट हाथ ना लगी. महागठबंधन की मुंहतोड़ जवाब से बीजेपी की बेचैनी बढ़ती दिख रही है. कल तक जो विपक्ष खामोश बैठा था वो अब बीजेपी को हार का कारण गिना रहा है. इतना ही नहीं जदयू ने भी बिहार में हारने के बाद भाजपा पर ऊंगली उठाई है. देखिए किस तरह बीजेपी के साथ जुड़े दल भाजपा का साथ छोड़ रहे हैं…

विपक्षियों की नसीहत

इस उप चुनाव के नतीजों पर विपक्षियों की जीत देखकर लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी ने नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला. तेजस्वी ने कहा कि अवसरवादी नीतीश कुमार को जनता ने सबक दिया है. साथ ही बताया कि बिहार में दंगा फैलाने के कारण जदयू को उपचुनाव में हार का सामना करना पड़ा.

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि देश को और समाज को बांटने वाली सरकार का खात्मा हुआ है. किसानों, बेरोजगारों ने भाजपा को जवाब दिया है. कैराना लोकसभा और नूरपुर के मतदाताओं को धन्यवाद और बधाई.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज के नतीजे दिखाते हैं कि देशभर में मोदी सरकार के खिलाफ लोगों में बहुत ज्यादा गुस्सा है. अभी तक लोग पूछते थे- विकल्प क्या है? अब लोग कह रहे हैं कि मोदी जी विकल्प नहीं हैं, पहले इन्हें हटाओ.

बीजेपी गठबंधन पर खतरा

इतना ही नहीं उप चुनाव की हार को देखकर बीजेपी के साथ जुड़ें अन्य दलों ने भी चिंता जताई है. जदयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा कि पेट्रोल-डीजल की महंगाई के कारण भाजपा हारी है. इनके साथ हमें भी हार का मुंह देखना पड़ा है. केसी त्यागी ने यह भी कहा कि उपचुनाव के नतीजे एनडीए के लिए चिंता का विषय हैं. एनडीए में अभी सहयोगी अलग-थलग महसूस कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में दो बड़े दल एक साथ आ गए हैं, इसलिए वहां के नतीजे खतरे की घंटी बन सकते हैं.

महबूबा मुफ्ती भी नाराज

बात को जारी रखते ही केसी त्यागी ने यह भी बताया कॉ आज चंद्रबाबू नायडू ने एनडीए का साथ छोड़ दिया है, शिवसेवा बीजेपी के खिलाफ ही लड़ रही है. वहीं अकाली दल खुश नहीं है, INLD साथ छोड़ चुकी है, महबूबा मुफ्ती ने भी नाराजगी जाहिर की है. उन्होंने कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले एनडीए को दुरुस्त करने की जरूरत है.

इसे भी पढ़ें-‘नीतीश जी ने बिहार में दो लाख तलवारें बंटवाई, नोबेल पुरस्कार मिलना चाहिए’

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.