बुराड़ीः 11 लोगों के मौत से पर्दा हटा! हैंड राइटिंग से खुलासा

0
819

नई दिल्ली। बुराड़ी में 11 लोगों के मौत की घटना ने देश को झकझोर दिया है. मोक्ष प्राप्ति व हरि से मिलने वाली बात करीब-करीब सच होती दिख रही है. क्राइम ब्रांच की जांच जारी है. इस मामले में एक के बाद एक कई पहलू सामने आ रहे हैं. पुलिस ने मौके से दो रजिस्टर बरामद किए हैं, जिनमें 11 मौतों की स्क्रिप्ट लिखी गई थी. इसके हैंड राइटिंग से बहुत कुछ साफ हो सकता है इसलिए पुलिस इसके पीछे लगी हुई है.

मंगलवार को मिली जानकारी के अनुसार परिवार के मुखिया के छोटे भाई ललित ने रजिस्टर में कुछ नोट्स लिखे थे. क्राइम ब्रांच के मुताबिक, दोनों रजिस्टर्स में छोटे भाई ललित की हैंड राइटिंग लग रही है, जिसकी फर्नीचर की दुकान थी. दोनों रजिस्टर में कुछ ऐसी चीजें लिखी हैं, वो एक-एक बातें वारदात से मेल खाती हैं.

PC-ndtv
  1. ललित ने रजिस्टर के नोट्स में लिखा था, ‘अंतिम समय में आखिरी इच्छा की पूर्ति के वक्त आसमान हिलेगा, धरती कांपेगी. उस वक्त तुम घबराना मत. मंत्रों का जाप बढ़ा देना. मैं आकर तुम्हे उतार लूंगा. औरों को भी उतारने में मदद करूंगा.’
  2. इतना ही नहीं बताया जा रहा है कि ललित अपने मरे हुए पिता से मिलता था. उनसे मिलने के दौरान हुई बातों को रजिस्टर में नोट करता था. रजिस्टर में लिखी इन बातों का मतलब ये निकाला जा रहा है कि ये मैसेज ललित को उसके पिताजी ने दिया. ललित ने परिवार के बाकी 10 सदस्यों ऐसा ही करने को कहा.
  3. रजिस्टर में एक जगह लिखा है कि पट्टियां अच्छे से बांधनी हैं. बता दें कि घर से जितने शव बरामद हुए उनमें से एक को छोड़कर सबकी आंखों पर पट्टियां बंधी थी. रजिस्टर में लिखा है कि सात दिन बाद लगातार पूजा करनी है. कोई घर में आ जाए तो अगले गुरुवार या रविवार को चुनें.
  4. दिलचस्प है कि वारदात रविवार की रात हुई. रजिस्टर में लिखा है कि बेब्बे (दादी) खड़ी नहीं हो सकतीं तो अलग कमरे में लेट सकती हैं. बेब्बे शायद उस बुजुर्ग महिला को कहा गया है जिनकी लाश अलग कमरे में बरामद की गई. रजिस्टर में लिखा गया कि मद्धम रोशनी का प्रयोग करना है. बच्चों के कान में क्यों ठूंसी थी रुई, आंखों में टेप चिपका था.
  5. बुराड़ी की यह घटना अपनी इच्छा से मौत व मोक्ष पाने की हसरत की ओर इशारा कर रही है. इसे सुनकर हर कोई हैरान है. लेकिन फिलहाल मृतक परिवार के डायरी के पन्ने व घर में मिले अजीबो-गरीब चीजें यही कहानी बता रही है.

इसे भी पढ़ें-दिल्ली के घर में 11 लटकती लाशें, दो डायरी में मौत की दास्तां

  • दलित-बहुजन मीडिया को मजबूत करने के लिए और हमें आर्थिक सहयोग करने के लिये दिए गए लिंक पर क्लिक करें https://yt.orcsnet.com/#dalit-dastak 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.