गिर रहा बसपा का जनाधार, संकट में राष्ट्रीय दल की मान्यता

रायपुर। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) का जनाधार लगातार गिर रहा है. छत्तीसगढ़ समेत तीन राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव में बसपा की साख दांव पर है. इन चुनावों में अगर बसपा का वोट प्रतिशत सम्मानजनक न रहा तो उसकी राष्ट्रीय दल की मान्यता भी खतरे में पड़ सकती है. यही वजह है कि इस बार छत्तीसगढ़ में बसपा पूरी ताकत झोंक रही है.

राष्ट्रीय दल की मान्यता बनाए रखने के लिए बसपा को छत्तीसगढ़ में कम से कम तीन सीटें जीतना और कुल छह फीसद वोट हासिल करना जरूरी है. छत्तीसगढ़ के साथ ही मध्य प्रदेश व राजस्थान में बसपा को छह फीसद वोट हासिल करना जरूरी है. ऐसा न हुआ तो हाथी चुनाव चिह्न छिन सकता है.

छत्तीसगढ़ में 2003 के विधानसभा चुनाव में बसपा को 6.94 प्रतिशत वोट मिले थे, जो वर्ष 2013 के विधानसभा के चुनाव में घटकर 4.29 प्रतिशत रह गए. 1998 में बसपा के तीन विधायक थे. राज्य बनने के बाद 2003 में पार्टी दो सीटों पर जीतीं, 2008 में भी यह प्रदर्शन दोहराने में कामयाब रही, लेकिन 2013 में पार्टी का सिर्फ एक विधायक ही सदन में पहुंच पाया. इससे साफ है कि बसपा का जनाधार धीरे-धीरे कम होता जा रहा है. बसपा के प्रदेश प्रभारी एमएल भारती का कहना है कि इस बार हम पूरी ताकत से मैदान में उतरेंगे.

इसे भी पढ़ें-हैंडपंप लगवाकर विधायक ने की दलित परिवार की मदद, पानी पिलाकर पूरी की प्रतिज्ञा

  • दलित-बहुजन मीडिया को मजबूत करने के लिए और हमें आर्थिक सहयोग करने के लिये दिए गए लिंक पर क्लिक करेंhttps://yt.orcsnet.com/#dalit-dast

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.