Times Now Opinion poll में मध्यप्रदेश से BSP के लिए अच्छी खबर

0
3354

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश में इस साल होने जा रहे चुनाव में भाजपा को सीटों के मामले में झटका लग सकता है, तो वहीं बहुजन समाज पार्टी को बड़ा फायदा हो सकता है. ये दावा टाइम्स नाउ के एक ओपिनियन पोल में किया गया है. इस ओपिनियन पोल के मुताबिक बीजेपी को पिछली बार के मुकाबले 12 सीटें कम मिलने का अनुमान है. तो वहीं सर्वे के मुताबिक कांग्रेस को इस बार 7 सीटों का फायदा होगा.

ओपिनियन पोल में मध्य प्रदेश विधानसभा की 230 सीटों में से भाजपा को 153 सीटें मिलने की बात कही गई है. यानि ओपीनियन पोल के मुताबिक प्रदेश में भाजपा सरकार बना सकती है. टाइम्स नाउ ने यह सर्वे 15 मार्च से 20 अप्रैल के बीच किया है. इस दौरान राज्य की 230 विधानसभा सीटों पर 42 हजार 550 मतदाताओं से उनकी राय पूछी गई.

इस ओपीनियन पोल में सबसे बड़ी खबर बहुजन समाज पार्टी के लिए है. सर्वे में बसपा की सीटें तीन गुना बढ़ने की बात कही गई है. सर्वे के मुताबिक पिछले चुनाव में 4 सीटें जीतने वाली बसपा इस बार अपना आंकड़ा 12 तक ले जा सकती है. इस लिहाज से बसपा को 8 सीटों का लाभ होता दिख रहा है. हालांकि गठबंधन कर चुनाव लड़ने की स्थिति में बसपा के लिए स्थिति और बेहतर हो सकती है.

जिस तरह से पार्टी विधानसभा चुनावों में नई रणनीति के तहत आगे बढ़ रही है, अगर मध्य प्रदेश में भी बसपा ने वही रणनीति अपनाई तो स्थिति दूसरी होगी. बसपा कर्नाटक और हरियाणा में गठबंधन कर चुनाव लड़ रही है. यूपी में भी समाजवादी पार्टी के साथ बसपा का समझौता हुआ है. ऐसे में अगर पार्टी मध्यप्रदेश में भी गठबंधन की राह चलती है तो 12 सीटों का आंकड़ा बढ़ सकता है जबकि भाजपा को नुकसान पहुंच सकता है.

बसपा के मध्यप्रदेश का प्रभार राज्यसभा सांसद अशोक सिद्धार्थ के पास है. सिद्धार्थ कर्नाटक के भी प्रभारी हैं, जहां बसपा-जेडीएस गठबंधन भाजपा और कांग्रेस को कड़ी टक्कर दे रही है. संभव है कि कर्नाटक के चुनावी नतीजों के बाद अशोक सिद्धार्थ की रिपोर्ट पर बसपा प्रमुख मायावती मध्य प्रदेश पर भी फैसला लें.

अशोक दास

अशोक दास

बुद्ध भूमि बिहार के छपरा जिले का मूलनिवासी हूं।गोपालगंज कॉलेज से राजनीतिक विज्ञान में स्नातक (आनर्स) करने के बाद सन् 2005-06 में देश के सर्वोच्च मीडिया संस्थान ‘भारतीय जनसंचार संस्थान, जेएनयू कैंपस दिल्ली’ (IIMC) से पत्रकारिता में डिप्लोमा। 2006 से मीडिया में सक्रिय। लोकमत, अमर उजाला, भड़ास4मीडिया और देशोन्नति (नागपुर) जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम किया। पांच साल तक कांग्रेस, भाजपा सहित तमाम राजनीतिक दलों, विभिन्न मंत्रालयों और पार्लियामेंट की रिपोर्टिंग की।
'दलित दस्तक' मासिक पत्रिका के संस्थापक एवं संपादक। मई 2012 से लगातार पत्रिका का प्रकाशन। जून 2017 से दलित दस्तक के वेब चैनल (www.youtube.com/c/dalitdastak) की शुरुआत।
अशोक दास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.