बैंकों के चार्जेज से बचना चाहते हैं तो अपनाएं ये तरीके

0
292

कई बार बैंक आपसे तमाम चीजों के लिए पैसे चार्ज करता है. इसमें मिनिमम बैलेंस के अलावा चेक बुक, एटीएम ट्रांजेक्शन और डेबिट कार्ड जैसी सुविधाएं हैं. इससे बचनेके लिए आप तमाम दूसरे रास्ते चुन सकते हैं, ताकि आपका चार्ज बच जाए. मसलन, चेक को छोड़कर नेटबैंकिंग का इस्तेमाल करें. हर अतिरिक्त चेकबुक पर शुल्क लगता है. नेटबैंकिंग के जरिए फंड्स को मुफ्त में ट्रांस्फर कर सकते हैं. ऐसा करने से आप 20 से 150 रुपये प्रति चेकबुक बचा सकते हैं.

  • इसी तरह क्रेडिट कार्ड के बिलों का समय पर भुगतान करें. आउटस्टैंडिंग राशि पर उच्च ब्याज दरें लगती हैं. समय पर बिल का भुगतान करने पर ब्याज के रूप में आप 39 से 42 फीसद सालाना की बचत कर सकते हैं. आपको बता दें कि तीन दिन की देरी से भी 750 रुपये तक का चार्ज लग सकता है.
  • कार्ड बिल के लिए ऑटो डेबिट रूट की सुविधा लें. अपने बैंक को निर्देश दें कि हर ड्यू डेट पर ऑटो डेबिट के तहत क्रेडिट कार्ड बिल का पांच फीसद खाते से काट ले. इससे आप भारी जुर्माने से बच सकते हैं. ऐसा करने से 39 फीसद से 42 फीसद तक की बचत कर सकते हैं जो कि भुगतान न की गई राशि पर लग सकता है.
  • बिल पे सेवाओं के लिए भी आप साइन अप करें. बिजली, पानी आदि के बिल के भुगतान में देरी करने पर कंपनियां जुर्माना लेती हैं. अपने बैंक को स्टैंडिंग इंस्ट्रक्शन दे सकते हैं कि वह सुनिश्चित करे कि समय पर बिल का भुगतान हो जाए. इस पर लगने वाली पेनल्टी 40 रुपये से लेकर 100 रुपये तक हो सकती है.
  • ईमेल पर डुप्लिकेट स्टेटमेंट की मांग करें. बैंक डुप्लिकेट फिजिकल स्टेटमेंट या पासबुक के लिए शुल्क लेते हैं. इसपर आप 100 रुपये तक की बचत कर सकते हैं.
  • बैंक शाखाओं से कैश ट्रांजेक्शन से बचें. बैंक एक महीने में शाखाओं से 3 से 4 चार फ्री कैश ट्रांजेक्शन की सुविधा देते हैं. इससे आप 50 रुपये से लेकर 150 रुपये प्रति ट्रांजेक्शन तक बचा सकते हैं.
  • अपने खाते में हर समय मिनिमम बैलेंस मेंटेन कर के रखें. ऐसा न करने से नॉन मेंटिनेंस चार्जेस लगते हैं. इससे आप 10 रुपये से लेकर 600 रुपये महीना तक बचा सकते हैं.
  • अपर्याप्त बैलेंस की स्थिति में चेक इश्यू न करें. चेक को डिओनर करने से न सिर्फ चार्जेस लगते हैं बल्कि नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट्स एक्ट के तहत दंडनीय अपराध भी होता है. इससे आप 500 रुपये लेकर 750 रुपये प्रति चेक बचा सकते हैं.
  • क्रेडिट कार्ड से पैसों कि निकासी न करें. ब्याज के साथ साथ जारीकर्ता ट्रांजेक्शन फीस बी चार्ज करता है. निकासी की गई राशि का 2.5 फीसद या 300 रुपये से 500 रुपये तक बचाए जा सकते हैं.

    इन तमाम जरूरी बातों का ध्यान रखकर आप साल में हजारों रुपये की बचत कर सकते हैं. इसलिए जरूरी है कि दिए गए तमाम बातों का ध्यान रखें और अपने बैंक को समझते हुए सारी प्लानिंग करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.